वैदिक मंत्रोचार के बीच काशी के 22 विद्वान कराएंगे रामलला की शिफ्टिंग

94
rammandir

लखनऊ: सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद तो राम भक्तों में नई जान आ गयी, और मंदिर निर्माण की तैयारियों में तेज़ी आ गयी। राममन्दिर निर्माण की नींव दो अप्रैल यानी रामनवमी के दिन रखी जाएगी। इस ख़ुशी में अयोध्या में व्यापक तैयारी की जा रही है। मंदिर बनने में लगभग दो साल का समय लगेगा। इस वजह से अरसे से टेंट में विराजमान रामलला को फाइवर के अस्थायी मंदिर में रखने का फैसला किया गया है। इसके लिए दिल्ली से बुलेट प्रूफ काटेज आने की भी संभावना है। 20 मार्च से ही अयोध्या में अनुष्ठान शुरू हो जायेंगे। इन अनुष्ठानों के लिए काशी से 22 विद्वान अयोध्या पहुंच रहे हैं। 24 व 25 मार्च को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ खुद भी पूजन में हिस्सा ले रहे हैं जिसके बाद रामलला को नये स्थान पर शिफ्ट कर दिया जायेगा।

इसे भी पढ़ें:-सरकार के सौ दिन पूरे होने पर अयोध्या आ रहे उद्धव ठाकरे

20 मार्च से शुरू हो जायेंगे धार्मिक अनुष्ठान

नए भवन व प्रस्थान से लेकर दर्शन मार्ग का भूमि शुद्धिकरण पूजन और नवरात्र में कलश स्थापना को लेकर ट्रस्ट ने प्रख्यात वैदिक विद्वानों को बुलाने की तैयारी शुरू कर दी है। भगवान राम को 24 मार्च को नये स्थान पर शिफ्ट किया जायेगा इसके लिए 20 मार्च से ही परिसर में विशेष वैदिक विद्वान वैदिक मंत्रों के साथ धार्मिक अनुष्ठान शुरू कर देंगे। रामलला की प्रथम पूजा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ करेंगे। इसके बाद रामनगरी के हर मठ-मंदिर में बड़े उत्सव की योजना है, जिसमें दुनिया भर के हजारों भक्त मौजूद रहेंगे।

इसे भी पढ़ें:-राम मंदिर निर्माण समिति के अध्यक्ष नृपेन्द्र मिश्रा 29 को आएंगे अयोध्या

मथुरा से भी पहुंच रहे हैं  विद्वान

रामलला की जीत की ख़ुशी में इस बार अयोध्या के हजारों मन्दिरों में भव्य उत्सव मनाने की तैयारी की जा रही है। श्री रामजन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास के मार्गदर्शन में मणिरामदास की छावनी में पांच दिवसीय कल्याणक उत्सव का आयोजन किया जायेगा। इस दौरान रामायण पाठ, यज्ञ, हवन आदि का कार्यक्रम सुनिश्चित है। हवन कुंड में रामायण की चौपाईयों से आहुति दी जाएगी। मथुरा से बड़ी संख्या में वैदिक विद्वान, आचार्य अनुष्ठान के लिए अयोध्या पहुंच रहे हैं।

इसे भी पढ़ें:-अयोध्या में मस्जिद के कुशल संचालन के लिए भी ट्रस्ट बनाया जाए – रिज़वी