15 अगस्त से दोबारा शुरू होगा सीएए और एनआरसी के खिलाफ आंदोलन, तैयारी हुई तेज

122

अलीगढ़। कोरोना वायरस के चलते स्थगित हुए सीएए और एनआरसी के खिलाफ प्रदर्शनों को इस संक्रमण काल के दौरान एक बार फिर से शुरू करने की तैयारी चल रही है। अलीगढ़ पहुंचे सुप्रीम कोर्ट के वकील महमूद प्राचा ने बताया कि सीएए और एनआरसी के खिलाफ आंदोलन की धार फिर से तेज करने को लेकर कवायद चल रही है। उन्होंने कहा कि भारत सरकार की अनलॉक स्टेज काफी आगे पहुंच गई है। हर तरह की गतिविधियों का संचालन शुरू हो गया है। ऐसे में 15 अगस्त से सीएए और एनआरसी के खिलाफ फिर से प्रदर्शन शुरू किए जा सकते हैं।

इसे भी पढ़ें: मुंबई पुलिस की मदद से दिल्ली पुलिस ने आत्महत्या करने जा रहे शख्स की ऐसे बचाई जान

महमूद प्राचा ने सीएए और एनआरसी पर कहा कि अलीगढ़ से निमंत्रण और मांग हो रही थी कि वह यहां आएं, क्योंकि संविधान बचाने का जो आंदोलन चल रहा था उसे कोरोना वायरस के संक्रमण और लॉकडाउन के चलते स्थगित कर दिया गया था। अब कोरोना वायरस के दौरान अनलॉक की प्रक्रिया काफी आगे पहुंच चुकी है। भारत सरकार की तरफ से भी अनलॉक गाइडलाइन जारी कर दी गई है। पूरा देश अनलॉक की तरफ बढ़ रहे हैं, जिसकी गाइडलाइन भी जारी हो रही है। इसके तहत सभी तरह की गतिविधि को फिर से शुरू करने के लिए सरकार अनुमति दे रही है। इसको देखते हुए आंदोलन को अब फिर से शुरू किया जा सकता है।

वहीं दूसरी एक जरूरी कारण यह भी है कि मोहर्रम के लिए जो मुस्लिम समुदाय में धार्मिक गतिविधियों को किस प्रकार से कानूनी दायरे में रहकर पूरा किया जा सके इसके बारे में सभी लोगों को समझाया जाएगा। इतना ही नहीं अगर उन्हें कोई गलत तरह से परेशान व प्रताड़ित करे तो उससे कैसे बचा जाए इसके लिए भी बताया जाएगा। उन्होंने जगन्नाथपुरी में रथयात्रा का हवाला देते हुए कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने रथयात्रा निकालने की अनुमति दी थी। सुप्रीम कोर्ट की जो गाइडलाइन है वह बाकी समुदाय की गतिविधियों पर भी लागू होती हैं और इसी के तहत 15 अगस्त यानी स्वतंत्रता दिवस के आसपास से दोबारा संविधान बचाओ आंदोलन शुरू किया जाएगा।

इसे भी पढ़ें: पाकिस्तान से आए 11 हिंदू शरणार्थी की हत्या, नींद की गोली के साथ दिया जहर का इंजेक्शन