72 साल पुरानी ये शराब..इतने लाख रूपए में बिकी..जानकर दंग रह जाएंगे आप

47

यकीनन..कुछ खबरें ऐसी होती है, जिन पर एतबार करना हमारे मुश्किल ही नहीं बल्कि नामुमकिन सा लगता है, लेकिन यह खबरें होती सच्ची हैं। विचारों के सैलाब में सराबोर होकर भी आप इनकी सत्यता पर  सवाल नहीं उठा सकते हैं। भले ही आप कितने ही बुद्धिजीवी क्यों न हो मगर आप इनकी विश्वसनियता पर प्रशनचिन्ह खड़ा नहीं कर सकते हैं। एक ऐसी ही खबर सामने आई है, जिसे जानकर आप दंग रह जाएंगे। आपको यह जानकर हैरानी होगी कि महज एक बोतल शराब 36 लाख रूपए में बिकी है। ऐसा नहीं है कि यह 36 लाख रूपए वाली शराब आपको जरूरत से ज्यादा नशा या खुशी देगी और इससे कम कीमत वाली शराब आपको कम नशा देगी। यह शराब भी बिल्कुल दूसरे शराबों की तरह ही हैं। इसमे कोई हीरे मोती नहीं जड़े हुए हैं तो आखिर यह इतने ज्यादा दाम पर क्यों बिकी है, तो वजह महज इतनी सी थी कि यह 72 साल पुरानी थी.. इसलिए गुजरते वक्त के साथ इसकी कीमत में  क्रांतिकारी इजाफा दर्ज किया गया है। ये भी पढ़े :कोरोना वायरस से खुद को कैसे बचाएं और कैसे किया जाये देश का विकास, आज बताएंगे पीएम मोदी

और तो और आपको यह जानकर भी हैरानी होगी कि महज इस एक बोतल शराब को खरीदने के लिए  लोगों के बीच होड़ सी मच गई। इसे पहले कौन खरीदेगा और कौन नहीं। इसे लेकर बवाल मच गया। इस शराब को खरीदने के लिए बकायदा लोगों का मजमा लगा।  इसकी बोली लगाई गई तब जाकर इसकी कीमत 36 लाख रूपए तक जा पहुंची। बताया जा रहा है कि यह शराब 1948 में बनी थी। खास बात यह है कि इतने साल बीत जाने के बावजूद भी इसकी गुणवत्ता में कोई बदलाव दर्ज नहीं किया गया। शायद यही वजह है कि इसे खरीदने के लिए होड़ लग गई।

यहां हम आपको बताते चले कि ग्लेन ग्रांट व्हिस्की की एक बोतल को स्वतंत्र रूप से बॉटलर गॉर्डन और मैकफेल द्वारा नीलामी में पेश किया गया। गौरतलब है कि ऐसे दौर में जब आर्थिक समस्याएं अपने शबाब पर पहुंच चुकी है, तो फिर ऐसे में इस तरह  महज एक शराब के  लिए 36 लाख रूपए की कीमत अदा करना बेहद चर्चा का विषय बनी हुई है। बता दें कि शराब की यह बिक्री हांगकांग में हुई। जहां लोग इस शराब को खरीदने के लिए खासा उत्सुक दिखे हैं। बता दें कि अभी कोरोना वायरस के कहर के चलते पूरे विश्व में आर्थिक समस्याएं अपने चरम पर पहुंच चुकी है। ये भी पढ़े :कोरोना वायरस की दिखी नई किस्म, पहले से दस गुना ज्यादा है घातक