इस खिलाड़ी के चोटिल होने से डगमगाने लगी टीम इंडिया की जीत

59
Team india

चेन्नई में भारत और इंग्लेंड (India and England )के बीच खेले जा रहे टेस्ट सीरीज (Test series) में बड़ी ही ट्वीस्ट आने वाला है। टेस्ट मैच में टीम इंडिया जीत के काफी नजदीक हैं। मैच के चौथे दिन, मंगवार को ऑलआउट होते ही इंग्लैंड टेस्ट मैच गंवा देगा। इस तरह चार मुकाबलों की सीरीज 1-1 से बराबरी पर खड़ी हो जाएगी, लेकिन उसी दौरान टीम इंडिया के लिए एक बुरी खबर भी है। दरअसल, दल के सबसे युवा खिलाड़ी और उदयमान बल्लेबाज शुभमन गिल चोटिल हो गए।

इसे भी पढ़ें-30 फिट गहरी नहर में गिरी यात्रियों से भरी बस, अब तक निकाले गए सात शव, रेस्क्यू कार्य जारी30 फिट गहरी नहर में गिरी यात्रियों से भरी बस, अब तक निकाले गए सात शव, रेस्क्यू कार्य जारी

टेस्ट मैच में चोटिल हुए गिल

बीसीसीआई ने आधिकारिक ने ट्विटर अकाउंट के द्वारा इस बात की जानकारी दी। पता लगा है कि मैच के तीसरे दिन यानी सोमवार को गिल अपनी बाईं बाह चोटिल कर बैठे, चोट लगने के बाद उन्हें एहतियातन स्कैन के लिए अस्पताल ले जाया गया है। बीसीसीआई की मेडिकल टीम उनका आंकलन कर रही है। खेले जा रहे टेस्ट मैंच में वह आज फील्डिंग भी नहीं करेंगे।

दूसरे ओवर में आउट हुए गिल

टेस्ट मुकाबले में टॉस जीतकर विराट ने पहले बल्लेबाजी का फैसला लिया था, लेकिन स्कोरबोर्ड पर अभी पहला रन चढ़ भी नहीं पाया था कि गिल आउट हो गए। बिना रन के विटक गिरने पर टीम इंडिया थोड़ी निराश हैं। मैच के दूसरे ही ओवर में पेसर ओली स्टोन की तेज गेंद उनके पैड पर जाकर लगी और LBW की जोरदार अपील पर अंपायर ने अंगुली खड़ी कर दी। दूसरी पारी में भी 20 वर्षीय इस खिलाड़ी का बल्ला भी नहीं चटका। 28 गेंदों में उन्होंने 14 रन बनाए ही थे कि इस बार लीच ने उन्हें पगबाधा आउट कर भारत को पहला झटका दिया।

हालांकि इसी मैदान पर इससे पहले खेले गए टेस्ट मैच में इनकी प्रदर्शन काफी अच्छा रहा। पहली पारी में तेज 29 रन तो दूसरी पारी में अर्धशतक जमाया था। चंद माह पहले ऑस्ट्रेलिया में अपना टेस्ट डेब्यू करने वाले शुभमन ने वहां भी हर किसी को अपने खेली पारी से प्रभावित किया था। सिर्फ चार टेस्ट मैच के पुराने करियर में तीन अर्धशतक जमा चुके हैं। स्पिनर और पेसर्स दोनों के ही खिलाफ उनकी उच्च तकनीक अपने दौर के अन्य खिलाड़ियों से गिल को अलग बनाती है।

इसे भी पढ़ें-दिल्ली बॉडर्स पर कम हो रही किसानों की संख्या, क्या खत्म हो जायेगा आंदोलन या है कोई नई रणनीति