TCA ने बढ़ाई मोहम्मद अजरूद्दीन की मुश्किलें, मैच फिक्सिंग मालमे की हो दोबारा जांच

455
Azruddin

भारतीय टीम के पूर्व टेस्ट कप्तान मोहम्मद अजरूद्दीन(Mohammad Azharuddin)  पर मैच फिक्सिंग का आरोप लगाया था, जिसकी वजह से उन पर जीवन भर मैच खेलने पर बैन लगा दिया गया था। इस मामले में एक बार फिर उनकी मुश्किलें बढ़ सकती है। क्योंकि तेलंगाना क्रिकेट एसोसिएशन (Telangana Cricket Association) ने इस मामले में उनके खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। टीसीए के अध्यक्ष वाय. लक्ष्मीनारायण (Y. Laxminarayana) और सचिव गुरुवा रेड्डी (D. Guruva Reddy) जल्द ही रविवार को ने रविवार को कहा कि जल्द ही एक प्रतिनिधिमंडल केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात करेगा और उनस इस बात की अपी करेंगे कि अजहरुद्दीन के खिलाफ मैच फिक्सिंग मामले में एक बार फिर नए सिरे से सीबीआई जांच कर आरोपियों के खिलाफ चार्जशीट दायर करें।

इसे भी पढ़ें-कोरोना वैक्सीन कोविशील्ड के टीकाकरण को लेकर केंद्र सरकार ने बदले नियम, अब इतने दिन में लगेगा दूसरा डोज

खिलाड़ियों के सेलेक्शन में की गड़बड़ी

रिपोर्ट के मुताबिक, TCA के पदाधिकारियों ने पूर्व कप्तान अजहरुद्दीन को उनके गलत कामों को लेकर धमकी दी है कि जल्द ही उनके गलत कार्यनामों का पर्दाफाश होने वाला है। टीसीए ने आरोप लगाया है कि अजहरुद्दीन हैदराबाद क्रिकेट एसोसिएशन (Hyderabad Cricket Association) को चलाने के दौरान सुप्रीम कोर्ट के दिशानिर्देशों और लोढ़ा कमेटी की सिफारिशों का लगातार उल्लंघन कर रहे हैं।  उन्होंने कहा कि अजहरुद्दीन को दिशा निर्देश देने वाले एसचीए ने नियमों को ताक पर रखकर अकाउंट के ऑडिट, खिलाड़ियों और कोच के सेलेक्शन पर गड़बड़ी की है।

टीसीए ने अजहरुद्दीन के खिलाफ दोबारा जांच की करी मांग

टीसीए के सचिव रेड्डी ने कहा कि अजहरुद्दीन को देश की किसी भी अदालत ने सट्टेबाजी पर लगाए गए आरोप से कभी बरी नहीं किया है। उन्हें सिर्फ बीसीसीआई द्वारा आजीवन बैन लगाने में के मामले में आंध्र प्रदेश हाई कोर्ट से राहत मिली थी। 2012 में अजहरुद्दीन पर लगा लाइम बैन हाईकोर्ट ने हटा दिया था। बीसीसीआई ने दिसंबर 2000 में मोहम्मद अजहरुद्दीन पर मैच सट्टेबाजी मामले में आजीवन बैन लगा दिया था। इससे संबंधित हाईकोर्ट ने बैन हटाने पर लिए गए फैसले पर कोई चुनौती नहीं दी गई है। इस पर हम बीसीसीआई से ये मांग करते हैं कि वह फिर नए सिरे से अजहरुद्दीन के खिलाफ कानूनी जांच शुरू करे।

इसे भी पढ़ें-कानपुर की दबंगई : दो थप्पड़ का ऐसे लिया बदला, मामला जान पुलिस भी हुई हैरान