युवराज सिंह के 4 दमदार रिकॉर्ड, जिन्हें तोड़ने में कोहली और रोहित शर्मा जैसे खिलाड़ियों के छूटे पसीने 

928

यूं तो क्रिकेट का खेल बेहद रोमांचक है, लेकिन उससे भी ज्यादा रोमांचक है, इस खेल के खिलाड़ी और उनसे जुड़े वो किस्से जिन्होंने यूं समझ लीजिए कि क्रिकेट की दुनिया में इतिहास रच दिए हैं। आज हम आपको इस खास रिपोर्ट में एक ऐसे ही खिलाड़ी के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसकी शानदार पारियों का जलवा हमेशा से सभी की जुबां पर छाया रहा है। यह खिलाड़ी कोई और  नहीं बल्कि युवराज सिंह हैं , जिन्होंने 6 गेंदों पर 6 छक्के लगाकर एक नायाब इतिहास  अपने नाम किया है, लेकिन इसके इतर उन्होंने 4 ऐसे रिकॉर्ड भी अपने नाम किए हैं,  जिनको तोड़ने की हिम्मत फिलहाल तो अभी तक कोई नहीं जुटा पाया है और रही  बात भविष्य की तो वो अप्रत्याशित है, जिसके बारे में कुछ भी कहना अभी मुश्किल है, तो चलिए इन 4 रिकॉर्ड पर जरा तफसील से गौर फरमाएं चलते हैं। ये भी पढ़े :

  पहला..12 गेंदों में जड़ा था अर्धशतक  
अपनी ताबड़तोड़ बल्लेबाजी से सिक्सर किंग युवराज सिंह ने महज 12 गेंदों में अर्धशतक जड़ा था। अपनी इ्स शानदार  पारी से उन्होंने अपने प्रशंसकों का दिल भी जीत लिया था। यह शानदार पारी उन्होंने इंग्लैंड के खिलाफ टी-20 वर्ल्ड कप 2007 में खेली थी। उन्होंने 7 चौके और 3 छक्के लगाए थे। युवराज सिंह की इस शानदार पारी के दम पर भारत ने इंग्लैंड को 18 रनों से मात दिया था। युवराज को इस शानदार पारी के लिए मैन ऑफ दॉ मैच से भी नवाजा गया था।

दूसरा…जब 6 गेंद पर लगाए थे 6 छक्के 
इसी फेहरिस्त में युवराज सिंह का दूसरा रिकॉर्ड भी दर्ज है, जिसे तोड़ना मौजूदा समय में मुश्किल ही नहीं बल्कि नामुमकिन लग रहा है। 2007 में इंग्लैंड के खिलाफ टी-20 वर्ल्ड कप में युवराज सिंह ने 6 गेंद पर 6 छक्के जड़ दिए थे। उनके इस नायाब प्रदर्शन ने क्रिकेट प्रेमियों का दिल जीत लिया था।  उनका यह प्रदर्शन अब क्रिकेट की दुनिया में इतिहास बन चुका है, जिसे तोड़ना फिलहाल किसी के बूते की बात नहीं है। यहां तक इसे तोड़ने की उम्मीद विराट कोहली सहित रोहित शर्मा जैसे खिलाड़ियों से लगाई गई थी  लेकिन हालिया स्थिति में इसके आसार बनते नहीं दिख रहे हैं।

  तीसरा..वर्ल्ड कप में मैन ऑफ दॉ मैच का टूर्नामेंट
वहीं अगर बात युवी के तीसरे रिकॉर्ड की करें तो वो है उनका दो बार मैन ऑफ दॉ मैच बनना। पहली बार उन्होंने 2000 में अंडर-19 के विश्व कप में  मैन ऑफ दॉ मैच का खिताब जीता था। इसके बाद फिर वे 2011 के विश्व  कप में भी मैन ऑफ दॉ मैच रहे थे। उन्हीं के दमदार प्रदर्शन के दम पर भारत  को विश्व कप में जीत मिली थी। फिलहाल , उनका यह रिकॉर्ड भी टूटना  मुश्किल लग रहा है। अभी तक का उनका प्रदर्शन बेहद शानदार रहा है,  जिसके  आगे हर कोई बौना ही नजर आ रहा हैं।  अब आगे क्या होता है। इस पर फिलहाल कुछ भी कहना मश्किल  है।

चौथा…15 विकेट हासिल करने वाले अकेले खिलाड़ी 
युवी ने न महज अपनी बल्लेबाजी से प्रशंसकों का दिल जीता है, बल्कि अपनी गेंदबाजी से भी कमाल कर दिखाया है । 2011 के वर्ल्ड कप में उन्होंने 15 विकेट हासिल किए थे। 9 मैचों की पारियों में उन्होंने 362 रन बनाकर भी कमाल कर दिखाया था। ये भी पढ़े :इस पूर्व कप्तान ने जब भारतीय टीम का उड़ाया मजाक तो मिला करारा जवाब