कब और कैसे शुरू करना चाहिए मां वैभव लक्ष्मी का व्रत, जानें नियम और महत्व

275
PUJA

हर व्यक्ति चाहता है कि मां लक्ष्मी की कृपा उस पर बनी रहे। उसे जीवन में कभी भी आर्थिक तंगी का सामना न करना पड़े। परिवार में हमेशा सुख समृद्धि का वास रहे। इसके लिए तरह-तरह के उपाय भी करता और मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए उनकी पूजा अर्चना करता रहता है, लेकिन क्या आप जानते मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने का सबसे आसान तरीका क्या है ? जी हां, अगर मां लक्ष्मी आपसे रूठ गई हैं तो उन्हें मनाने का सबसे आसान तरीका है मां वैभव लक्ष्मी का व्रत। इस व्रत करके और विधि विधान से मां किए पूजा करके उन्हें मना सकते हैं और अपनी आर्थिक समस्याओं का समाधान कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें:-जूता-चप्पल पहनकर न जाएं इन स्थानों पर, मां लक्ष्मी हो जाएंगी नाराज

वैभव लक्ष्मी का व्रत को शुक्रवार को किया जाता है। बता दें कि शुक्रवार का दिन माता लक्ष्मी, मां दुर्गा व संतोषी माता का होता है। मान्यता है कि शुक्रवार के दिन मां वैभव लक्ष्मी की विधि-विधान से पूजा करने से मां लक्ष्मी का आशीर्वाद प्राप्त होता है और हमेशा आप पर उनकी कृपा बनी रहती हैं। चूंकि शुक्रवार का दिन लक्ष्मी मां का माना जाता है ऐसे में यह व्रत भी शुक्रवार के दिन ही किया जाना चाहिए। इस व्रत को पुरुष व स्त्री दोनों ही कर सकते हैं। अगर सुहागिन स्त्रियां यह व्रत करती हैं तो वह ज्यादा शुभकारी माना जाता है।

शुक्रवार को करें व्रत

व्रत का संकल्प लेने समय मन में अपनी मनोकामना जिसके लिए आप व्रत रख रहे हैं उसे अवश्य कहनी चाहिए। भक्त को अपनी श्रद्धा और सामर्थ्य अनुसार 11 या 21 शुक्रवार तक मां वैभव लक्ष्मी का व्रत करना चाहिए। बता दें कि वैभव लक्ष्मी की पूजा शाम को की जाती है। व्रत के दौरान दिन में फलाहारी भोजन करे इसके बाद शाम को पूजा आदि संपन्न करने के बाद शाम अन्न ग्रहण कर सकते हैं।

पूजा की विधि

दिन भर व्रत रहने के बाद शुक्रवार को शाम के समय स्नान करके साफ कपड़े पहने इसके बाद पूर्व दिशा में चौकी पर लाल कपड़ा बिछाएं और उस पर मां लक्ष्मी की प्रतिमा स्थापित करें। चौकी पर ही मां लक्ष्मी के बगल में श्रीयंत्र भी रखें। मां लक्ष्मी को सफेद वस्तुएं अधिक पसंद होती हैं इसलिए पूजा के वक्त कोशिश करें कि सफेद कपड़ा पहने और मां को सफेद फूल और सफेद रंग की चीजों का भोग लगाएं सफेद पुष्प के अतिरिक्त मां लक्ष्मी को गुलाब का फूल भी काफी प्रिय है। इस दिन प्रसाद में चावल की खीर बनाएं। पूजा के बाद वैभव लक्ष्मी कथा का पाठ जरूर करना चाहिए।

व्रत में क्या खाएं

कच्चे केले की टिक्की
सिंघाड़े की नमकीन बर्फी
साबूदाने का पुलाव
कूटू की सब्जी
कूटू के पराठे, खीरे,आलू और मूंगफली का सलाद

इसे भी पढ़ें:-रात के समय घर में न करें ये काम, मां लक्ष्मी की रुक सकती है कृपा