भागवत कथा सुनाने की जगह अल्लाह का नाम ले रहे हैं ये गुरु, जानें क्यों

1176
bhagwat

इस वक्त हिंदू धार्मिक गुरु ‘अली मौला’ के नाम का जाप कर रहे हैं और लोगों को भी अली के नाम का जाप करने को कह रहे हैं। अपने आप को हिंदू धर्म का प्रचारक बताने वाले ये गुरु भागवत कथा सुनाने की स्थान पर ‘अली मौला’ के बारे में कहते हैं।जिससे लोगों का धर्म परिवर्तन करवा सके। इन गुरुों पर लाखों हिंदूओं की आस्था है लेकिन ये गुरु हिंदू होकर और भगवा रंग धारण कर हिंदूओं का धर्म परिवर्तन करवाने का जाल बिछा रहे हैं। सोशल मीडिया पर कुछ ऐसी वीडियो वायरल हो रही हैं, जिनमें इन जैसे गुरु लोगों को अली के नाम का जाप करने को कहे रहे हैं।

इसे भी पढ़ें: जिस शख्स से प्यार करती थीं विद्या बालन, बहन भी थीं उसके लिए पागल, पता चलने पर घोंट दिया था गला

इतना ही नहीं ये खेल खेलने के लिए लोगों को लड़कियों के नाच गाने दिखा कर अपने जाल में फसा ले रहे हैं जिससे अधिक से अधिक युवा इनके झांसे में आ सकें। प्रवचन सुनाते वक्त गुरु कहानियों की सहायता से इस्लाम धर्म के बारे में हिंदूओं को बहलाते हैं।

मोरारी बापू
मोरारी बापू पर लाखों लोगो की आस्था हैं और ये अधिकतर रामकथाओं पर प्रवचन देते हैं। परन्तु अब इन्होंने रामकथाओं के बीच में अली का नाम भी शामिल करने लगे हैं। मोरारी बापू काफी वक्त से हिंदू धर्म को इस्लाम से मिला रहे हैं और हिन्दुओ को इस्लाम का ज्ञान बाट रहे हैं। जो कुछ भी ये कहते हैं उसेसे वो सब अल्लाह बुलवाते हैं। मोरारी बापू की कई ऐसी वीडियो सोशल मीडिया पर है जिसमें ये साफ तौर पर देखा जा सकता हैं की ये इस्लाम का प्रचार कर रहे हैं और हिन्दुओ की भावनाओं के साथ खिलड़वाड़ कर रहे हैं।

देवी चित्रलेखा
देवी चित्रलेखा का जन्म 19 जनवरी 1997 में हरियाणा में एक ब्राहमण परिवार में हुआ था और वे भगवान् राम जी और कृष्ण जी के गीत गाकर बेहद ही मशहूर हो गई और इनके लाखों की संख्या में भक्त हैं। लेकिन ये अपने प्रवचन में सभी धर्म को एक जैसा ही बताती हैं और बताती है कि अगर हम नमाज का सम्मान कर लेंगे तो क्या हो जाएगा। लेकिन इनकी इस बात का विरोध कई लोगों ने किया और इनसे ये सवाल भी पूछा कि नमाज में अल्ला हू अकबर पढ़ा जाता है। जिसका मतलब अल्ला के सिवा कोई और भगवान नहीं है। इस धर्म को अन्य धर्म के बराबर कैसे मान जा सकता है?

चिन्मयानंद गुरु
चिन्मयानंद गुरु जिन पर रेप का आरोप हैं ये भी इस्लाम धर्म का प्रचार करते हैं और हिंदू लोगों को तुझको अल्ला रखे जैसे गाने सुनाते हैं। राम का नाम लेने के स्थान पर अल्ला अल्ला करते हैं। जिससे लोग इस्लाम धर्म के मानने लगे हैं।

आखिर क्यों लेते हैं ये अल्ला का नाम
बहुत लोगो का ऐसा कहना हैं कि इन गुरुओं का कनेक्शन खाड़ी के देशों से हैं। ये देश इन गुरुओं को इस्लाम का प्रचार करने के लिए फंडिंग करते हैं। खाड़ी देशों से बड़ी संख्या में लोग इनके प्रवचनों में शामिल होने के लिए आते हैं। ये इस बात का सबूत है।

इसे भी पढ़ें: एसिड अटैक को सह दे रहा इस स्टार का टिकटॉक वीडियो, यूजर बोले गलत बात