सकट चौथ 2021: इस तारीख को है संकष्टी चतुर्थी व्रत, यहां जानें कैसे दें चन्द्रमा को अर्ध्य

104
sakath

 

नई दिल्ली। इस साल संकष्टी चतुर्थी या सकट चौथ के नाम से जाना जाने वाला व्रत 31 जनवरी को पड़ रहा है। माघ मास की कृष्ण चतुर्थी को पड़ने वाले इस व्रत का विशेष महत्व है। हिन्दू धर्म शास्त्र के अनुसार संकष्टी चतुर्थी (Sankashti Chaturthi) का व्रत बच्चों की लंबी उम्र के लिए रखा जाता है। इस व्रत को वक्रतुण्डी चतुर्थी’, ‘माही चौथ’ और ‘तिलकुटा चौथ’ के नाम से भी जाना जाता है। इस बार चन्द्रोदय का समय रात नौ बजे है। चतुर्थी तिथि का प्रारंभ 13 तारीख को शाम 5.32 बजे से शुरू होकर 14 जनवरी 2021 को दोपहर 2.49 बजे तक रहेगा।

कैसे करें पूजा

1.संकष्टी चतुर्थी या सकट चौथ के दिन सुबह स्नान ध्यान करके भगवान गणेश की पूजा करें।
2. इसके बाद शाम को सूर्यास्त के बाद स्नान करके स्वच्छ वस्त्र पहनें।
3. गणेश जी की प्रतिमा के सामने एक जल से भरा कलश रखें।
4. भगवान गणेश जी को धूप-दीप, नैवेद्य, तिल, लड्डू, शकरकंद, अमरूद, गुड़ और घी अर्पित करें।
5. कही कही तिलकूट का बकरा भी बनाने का रिवाज है, जिसे घर का ही कोई सदस्य काटता है

चंद्रमा को दें अर्घ्य

हिन्दू धर्म शास्त्र (Hindu scripture) के मुताबिक संकष्टी चतुर्थी ( (Sankashti Chaturthi) या सकट चौथ के दिन शाम को पूजा करने के बाद चन्द्रमा को अर्ध्य दिया जाता है। चन्द्रमा को अर्ध्य शहद, चन्दन, रोली और मिश्रित दूध से देना चाहिए। कुछ स्थानों पर व्रत तोड़ने के बाद सबसे पहले शकरकंद खाने की परंपरा है।

इसे भी पढ़ें:-वास्तु शास्त्र: घर में इन स्थानों पर बनाएं स्वास्तिक का चिन्ह, कभी नहीं होगी धन की कमी