spot_img
Friday, September 17, 2021

गणेश चतुर्थी : आज के दिन ऐसा करने से चमक जाएगी आपकी किस्मत, बप्पा की होगी अपार कृपा

- Advertisement -
- Advertisement -

हिंदू पंचांग के अनुसार भाद्रपद मास की शुक्ल पक्ष की चतुर्थी तिथि को गणेश महोत्सव बड़ी धूमधाम से पूरे देश में मनाया जाता है। यह पर्व चतुर्थी से लेकर अनंत चतुर्दशी तक चलता है। मान्यता के अनुसार इस दिन भगवान गणेश का जन्म हुआ था तभी हम सब यह पर्व जन्मोत्सव के रूप में मनाते है। इस बार गणेश चतुर्थी पर्व 10 सितंबर 2021, दिन शुक्रवार यानी आज है। हिंदू धर्म की मान्यता के मुताबिक में गणेश भगवान (Lord Ganesha) को प्रथम पूजनीय भगवान का दर्जा प्राप्त है। किसी भी शुभ काम से पहले बप्पा की पूजा की जाती है और इसके बाद ही काम शुरू किया जाता है। इस खास दिन पर शुभ मुहूर्त पर पूजा करें साथ ही गणेश जी की आरती और चालीसा करें।

गणेश जी की चालीसा

Ganesh Utsav 2020 Date Time Shubh Muhurat For Ganpati Pratima Sthapna On Ganesh  Chaturthi Festival
जय गणपति सदगुणसदन, कविवर बदन कृपाल।
विघ्न हरण मंगल करण, जय जय गिरिजालाल।।

गणेश चतुर्थी पर इस शुभ मुहूर्त में करें बप्पा का पूजन, जानें पूजा विधि
गणेश चतुर्थी पर इस शुभ मुहूर्त में करें बप्पा का पूजन, जानें पूजा विधि

जय जय जय गणपति गणराजूमंगल भरण करण शुभ काजू।
जय गजबदन सदन सुखदाता विश्व विनायक बुद्घि विधाता ।।

वक्र तुण्ड शुचि शुण्ड सुहावन तिलक त्रिपुण्ड भाल मन भावन।
राजत मणि मुक्तन उर माला स्वर्ण मुकुट शिर नयन विशाला।।

पुस्तक पाणि कुठार त्रिशूलं मोदक भोग सुगन्धित फूलं।
सुंदर पीताम्बर तन साजित चरण पादुका मुनि मन राजित।।

Ganesh Chaturthi 2020: Special Yoga on Ganesh Chaturthi after 126 years  know according to the zodiac sign
धनि शिव सुवन षडानन भ्राता गौरी ललन विश्व विख्याता।
ऋद्धि सिद्धि तव चंवर सुधारे मूषक वाहन सोहत द्घारे।।

 

कहौ जन्म शुभ कथा तुम्हारी अति शुचि पावन मंगलकारी।
एक समय गिरिराज कुमारी पुत्र हेतु तप कीन्हो भारी।।

भयो यज्ञ जब पूर्ण अनूपा तब पहुंच्यो तुम धरि द्घिज रुपा।
अतिथि जानि कै गौरि सुखारी बहुविधि सेवा करी तुम्हारी।।

अति प्रसन्न है तुम वर दीन्हा मातु पुत्र हित जो तप कीन्हा।
मिलहि पुत्र तुहि, बुद्धि विशाला बिना गर्भ धारण, यहि काला।।

गणनायक, गुण ज्ञान निधाना पूजित प्रथम, रुप भगवाना।
अस कहि अन्तर्धान रुप है पलना पर बालक स्वरुप है।।

बनि शिशु, रुदन जबहिं तुम ठाना लखि मुख सुख नहिं गौरि समाना।
सकल मगन, सुखमंगल गावहिं नभ ते सुरन, सुमन वर्षावहिं।।

शम्भु, उमा, बहु दान लुटावहिं सुर मुनिजन सुत देखन आवहिं।
लखि अति आनन्द मंगल साजा देखन भी आये शनि राजा।।

निज अवगुण गुनि शनि मन माहीं बालक देखन चाहत नाहीं।
गिरिजा कछु मन भेद बढ़ायो उत्सव मोर न शनि तुहि भायो।।

कहन लगे शनि, मन सकुचाई का करिहौ शिशु मोहि दिखाई
नहिं विश्वास उमा उर भयऊ शनि सों बालक देखन कहाऊ।।

पडतहिं, शनि दृग कोण प्रकाशा बोलक सिर उड़ि गयो अकाशा।
गिरिजा गिरीं विकल है धरणी सो दुख दशा गयो नहीं वरणी।।

हाहाकार मच्यो कैलाशा शनि कीन्हो लखि सुत को नाशा।
तुरत गरुड़ चढ़ि विष्णु सिधायो काटि चक्र सो गज शिर लाये।।

बालक के धड़ ऊपर धारयो प्राण, मन्त्र पढ़ि शंकर डारयो।
नाम गणेश शम्भु तब कीन्हे प्रथम पूज्य बुद्घि निधि, वन दीन्हे।।

बुद्ध परीक्षा जब शिव कीन्हा पृथ्वी कर प्रदक्षिणा लीन्हा।
चले षडानन, भरमि भुलाई रचे बैठ तुम बुद्घि उपाई।।

चरण मातुपितु के धर लीन्हें तिनके सात प्रदक्षिण कीन्हें।
धानी गणेश कही शिवाये हुए हर्षयो नभा ते सुरन सुमन बहु बरसाए।।

तुम्हरी महिमा बुद्ध‍ि बड़ाई शेष सहसमुख सके न गाई।
मैं मतिहीन मलीन दुखारी करहुं कौन विधि विनय तुम्हारी।।

भजत रामसुन्दर प्रभुदासा जग प्रयाग, ककरा।
दर्वासा अब प्रभु दया दीन पर कीजै अपनी भक्ति शक्ति कछु दीजै।।

श्री गणेश यह चालीसा,
पाठ करै कर ध्यान,
नित नव मंगल गृह बसै,
लहे जगत सन्मान,
सम्बन्ध अपने सहस्त्र दश,
ऋषि पंचमी दिनेश,
पूरण चालीसा भयो,
मंगल मूर्ति गणेश।।

गणेश जी की आरती

जय गणेश जय गणेश, जय गणेश देवा ।
माता जाकी पार्वती, पिता महादेवा ॥

एक दंत दयावंत,चार भुजा धारी ।
माथे सिंदूर सोहे, मूसे की सवारी ॥

जय गणेश जय गणेश, जय गणेश देवा ।
माता जाकी पार्वती, पिता महादेवा ॥

पान चढ़े फल चढ़े और चढ़े मेवा ।
लड्डुअन का भोग लगे, संत करें सेवा ॥

जय गणेश जय गणेश, जय गणेश देवा ।
माता जाकी पार्वती, पिता महादेवा ॥

अंधन को आंख देत, कोढ़िन को काया ।
बांझन को पुत्र देत, निर्धन को माया ॥

जय गणेश जय गणेश, जय गणेश देवा ।
माता जाकी पार्वती, पिता महादेवा ॥

‘सूर’ श्याम शरण आए, सफल कीजे सेवा ।
माता जाकी पार्वती, पिता महादेवा ॥

जय गणेश जय गणेश, जय गणेश देवा ।
माता जाकी पार्वती, पिता महादेवा ॥

दीनन की लाज रखो, शंभु सुतकारी ।
कामना को पूर्ण करो, जग बलिहारी ॥

जय गणेश जय गणेश, जय गणेश देवा ।
माता जाकी पार्वती, पिता महादेवा ॥

इसे भी पढ़ें-शुक्रवार, 10 सितंबर राशिफल : नकारात्मक विचारों और आवेश पर रखें अंकुश, इन राशियों पर रहेगी गणेश जी की कृपा

 

- Advertisement -
spot_img
Latest news
- Advertisement -
Related news
- Advertisement -