बसंत पंचमी के मौके पर हुई घोषणा, तय तिथि पर खुलेंगे प्रभु के कपाट

62
Badrinath

देश के प्रसिद्ध चार धामों में से एक श्री बदरीनाथ धाम के कपाट खोलने की तारीख निश्चित (Set date) कर दी गई हैं। 18 मई को ब्रह्म बेला में प्रातः 4 बजकर 15 मिनट पर श्रद्धालुओं के दर्शनार्थ खोल दिए जाएंगे। आज बसंत पंचमी के धार्मिक महोत्सव पर नरेंद्र नगर स्थित टिहरी राज दरबार में टेहरी नरेश महाराजा मनुजेंद्र शाह ने पारंपरिक तौर पर धाम के कपाट खोलने की विधिवत घोषणा( Declaration) की। उन्होंने यह भी बताया कि पहले राज दरबार में गणेश और पंचांग पूजा के साथ भगवान श्री बदरी विशाल का आवाहन किया गया, जबकि श्री बदरीनाथ धाम का तेल कलश डिमरी पुजारियों ने नरेंद्र नगर राजदरबार पहुंचा दिया है।

इसे भी पढ़ें-बिग बॉस के घर में एक बार फिर दो दिल हुए एक, अब बढ़ा रोमांच

तिल का तेल पिरोने की तय हुई तारीख

कपाट खुलने की तिथि तय करने के साथ ही भगवान श्री बदरी विशाल के रोज नियमित रूप से अभिषेक में प्रयोग होने वाले तिल के तेल को पिरोने की तिथि भी तय कर दी गई हैं। कहा जाता है कि भगवान श्री बदरी विशाल जी का अभिषेक तिल के तेल से ही किया जाता हैं। राज दरबार में ही महारानी और अन्य सुहागिन महिलाओं के भगवान बदरी विशाल के अभिषेक के लिए तिलों का तेल पिरोकर तेल कलश में भरा जाएगा। यही तेल यात्रा काल में इसमें भरे हुए तिलों के तेल से भगवान का अभिषेक होगा।

यात्रा में होती हैं लाखों की भीड़

कपाट खुलने की घोषणा से सभी दर्शनार्थियों को बहुत ही खुशी मिली हैं। बड़ी लंबी कतार में भगवान के दर्शन के लिए लाइन लगती हैं। बाबा के दर्शन बहुत ही दुर्लभ होते हैं। प्रभु के यात्रा में लाखों की संख्या में भीड़ एकत्रित होती हैं। इस अवसर पर राज दरबार नरेंद्र नगर में बदरीनाथ धाम के रावल ईश्वर प्रसाद नंबूदरीपाद, डिमरी पंचायत के पदाधिकारी, सांसद तीरथ रावत, धर्माधिकारी भुवन उनियाल, देवस्थानम बोर्ड के अपर मुख्य कार्यधिकारी बीड़ी सिंह, चारधाम के उपाध्यक्ष जेपी ममगाईं, पूर्व मंत्री मोहन सिंह गांववासी सहित अन्य लोग उपस्थित थे।

इसे भी पढ़ें-अभिनेता संदीप नाहर ने फिल्म इंडस्ट्री को दिया झटका, पत्नी को ठहराया जिम्मेदार