पाक सरकार को मुश्किल में ला सकता है सिंध प्रांत का विद्रोह, देश विभाजन के संकेत

15
imran bajawa

नई दिल्ली। पहले से ही गंभीर आर्थिक तंगी और ख़राब माहौल से जूझ रहे पाकिस्तान (Pakistan) में हालात और भी बिगड़ते जा रहे हैं। यहां सिंध प्रांत की जनता और पुलिस ने साथ मिलकर पाक सेना और सरकार के खिलाफ ताल ठोक दी है। सिंध प्रांत में विद्रोह के हालात की गंभीरता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि हमेशा में तरह पाकिस्तान में चलने वाला सेना का सिक्का भी नतमस्तक नजर आया। पुलिस और सेना के बीच यह टकराव पाक सरकार की मुश्किलें बढ़ा सकता है। पाकिस्तान (Pakistan) के इस बदले हालात को लेकर सामरिक मामलों के जानकार और विवेकानन्द फाउंडेशन के वरिष्ठ फेलो पीके मिश्रा कहते हैं कि पाकिस्तान (Pakistan) सिंध प्रान्त का यह विद्रोह वहां देश विभाजन की वजह बन सकता है।

इसे भी पढ़ें:-भारत के खिलाफ पाकिस्तान को तालिबान-चीनी सेना का मिला साथ, POK में आधुनिक हथियारों से दे रहा है ट्रेनिंग

इस घटना से विश्व स्तर पर न सिर्फ इमरान सरकार (Imran Government) की किरकरी हो रही है,बल्कि सेना की छवि भी धूमिल हो रही है। उन्होंने कहा सिंध प्रान्त में जिस तरह से सेना और पुलिस के बीच टकराव हुआ,पुलिस ने जिस तरह से सेना का मुकाबला किया। इससे भी बड़ी बात यह है कि पुलिस को स्थानीय जनता का भरपूर समर्थन मिला यह पाकिस्तान के लिए खतरे की घंटी साबित हो सकता है। पीके मिश्र का कहना है कि भारत को इस मामले में तटस्थ नहीं रहना चाहिए,बल्कि इस पर नजर रखनी चाहिये और सिंध प्रान्त के मामले को संयुक्त राष्ट्र में उठाना चाहिए। मिश्रा का मानना है कि जो लोग पाकिस्तान की खिलाफत कर रहे हैं। वह पकिस्तान से अलग होने क मन बना चुके हैं। उनका कहना है कि इस विद्रोह को दबाने के लिए अगर इमरजेंसी लगाई गयी तो आग और भड़केगी।

सिंध प्रान्त में उपजे इस विद्रोह को लेकर अन्य एक्सपर्ट का मानना है कि भारत के खिलाफ प्रॉक्सी वार में शामिल पाकिस्तान (Pakistan) के लिए यह स्थिति बहुत जटिल हो सकती है। उनका कहना है कि भारत को इस मामले को यूएन में उठाना चाहिए और वहां बताना चाहिए कि सिंध प्रांत में सेना का इस्तेमाल कर वहां के लोगों को दबाया जा रहा है। बता दें कि सिंध प्रांत के भड़के इस विद्रोह की वजह वहां के पुलिस विभाग के आईजी के बीते दिनों सेना द्वारा अपहरण किया जाना है। हालांकि अपहरण के बाद सिंध पुलिस के तेवर से डरकर सेना प्रमुख बाजवा (Army Chief Bajwa) ने पाक रेजर्स की करतूत की जांच का भरोसा दिया है,लेकिन एक्सपर्टस का मानना है कि सिंध में जो माहौल बन रहा है वह आने वाले समय में एक बड़े विद्रोह की दस्तक है,जिसका खामियाजा पाकिस्तान (Pakistan) को देश विभाजन के रूप भुगतना पड़ सकता है।

इसे भी पढ़ें:-पाकिस्तान में गृह युद्ध की आहट, सेना और पुलिस आई आमने-सामने, हुई हिंसक झड़प