कोरोना की तीसरी लहर से संक्रमितों की संख्या बढ़ी, लोगों पर अब सख्ती

16
korona

दिल्ली। देश में कोरोना के संक्रमण ने फिर रफ्तार पकड़ लिया है। कई प्रांतों में कोरोनो से निपटने के लिए तैयारियों को और तेज कर दिया गया है। बताया जा रहा है कि ठंड के दिनों में संक्रमित मरीजों की संख्या में इजाफा हो सकती है। राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में तो बीते कई दिनों से लगातार इसके मामले बढ़ रहे हैं। कई राज्यों रात का कफ्र्यू लगाने की भी घोषणा कर दी है। मध्य प्रदेश के इंदौर, गुजरात के सूरत और राजकोट में 21 नवंबर की रात से नाइट कफ्र्यू लगा दिया गया है। इंदौर में लोग रात दस बजे से लेकर सुबह छह बजे तक अपने घरों से बाहर नहीं निकल सकते हैं। ज्ञात हो कि इंदौर में कोरोना के अधिक मरीज मिले थे। साथ ही गुजरात के दोनों शहरों में इसकी समय सीमा रात नौ बजे से लेकर सुबह छह बजे तक रखी गई है। रात के कफ्र्यू के दौरान कारखाने में काम करने वाले मजदूरों और आवश्यक सेवा में शामिल लोगों को छूट दी गई है। इंदौर में शनिवार को कोरोना के 546 नए पॉजिटव केस सामने आए हैं। इसके साथ ही संक्रमण का कुल आंकड़ा 37,661 हो गया है।

यह भी पढ़ेंः-Delhi violence: पुलिस ने कहा- हत्या से पहले अंकित शर्मा को किया गया था निर्वस्त्र

गुजरात में 1,515 नए मामले सामने आए। इसके साथ ही यहां कोरोना के कुल मामले 1,95,917 हो गए। इनमें 13,285 सक्रिय मामले हैं। राजस्थान सरकार ने कोरोना वायरस संक्रमण के मरीजों की बढ़ती संख्या के बीच संक्रमण से सबसे अधिक प्रभावित आठ जिला मुख्यालयों में रात्रिकालीन कफ्र्यू लगाने का फैसला किया है। सार्वजनिक स्थलों पर मास्क नहीं पहनने पर जुर्माना बढ़ाकर 500 रुपये कर दिया गया है। राजधानी जयपुर में धारा 144 लगाई गयी है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत की अध्यक्षता में शनिवार रात को राज्य मंत्रिपरिषद की बैठक में ये फैसले किए गए। बैठक में सर्दी और त्योहारी सीजन के कारण संक्रमण के बढ़ते मामलों को नियंत्रित करने के उपायों पर विचार हुआ।

संक्रमण से सर्वाधिक प्रभावित आठ जिला मुख्यालयों जयपुर, जोधपुर, कोटा, बीकानेर, उदयपुर, अजमेर, अलवर व भीलवाड़ा के नगरीय क्षेत्र में बाजार, रेस्टोरेंट, शॉपिंग मॉल व अन्य वाणिज्यिक संस्थान शाम सात बजे तक ही खुले रहेंगे। इन आठ जिला मुख्यालयों के नगरीय क्षेत्र में रात आठ बजे से सुबह छह बजे तक रात्रिकालीन कफ्र्यू रहेगा। मास्क नहीं लगाने वालों पर जुर्माना राशि बढ़ा कर सख्ती की जा रही है। इस दौरान विवाह समारोह में जाने वाले, दवाइयों सहित अति आवश्यक सेवाओं से संबंधित लोगों तथा बस, ट्रेन व हवाई जहाज में सफर करने वालों को आवागमन की छूट होगी।

यह भी पढ़ेंः-प्यार के बाद की शादी, फिर भी ज्यादा दिन नहीं चली इन बॉलीवुड स्टार्स की मैरिड लाइफ