पीएम के गांव में मिला दो हजार साल पुराना किला और परकोटा, पुरातत्ववेत्ता बोले- इतने वर्ष पुरानी हो सकती है सभ्यता

40
gujrat vadnagar

गुजरात, वडनगर। देश में अक्सर पुरातत्व विभाग (Archaeological Department) की खुदाई के दौरान कुछ न कुछ विशेष मिल ही जाता है, जो हमें हमारी संस्कृति और पूर्वजों के रहन सहन से रूबरू कराता है। इसी कड़ी में इन दिनों गुजरात के मेहसाणा जिले में स्थित प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) के गांव वडनगर ( Vadnagar) में हो रही खुदाई में करीब दो हजार साल पुराना किला मिला है। इसके पहले भी यहां सैकड़ों बरस पुरानी चीजें और अवशेष मिल चुके हैं।

इसे भी पढ़ें:-स्वात में दिखा भारतीय सम्यता और संस्कृति का वैभव, धरोहर है विष्णु का मंदिर

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री के गांव वडनगर (Vadnagar) में पुरातत्व विभाग कई वर्षों से खुदाई कर रहा है, जिसमें तमाम वर्षों पुरानी चीजें मिली हैं। वहीं अब वहां खुदाई करने वाले भू विशेषज्ञों ने दो हजार साल पुराने किले की आकृति मिलने का दावा किया है। उनका कहना है कि वाडनगर में हो रही खुदाई में जो किले जैसा परिसर और दीवार बाहर आयी है, वह 12 से 14 मीटर लंबी है। इसके साथ ही अभी करीब दो सौ मीटर परकोटे की खुदाई और सफाई चल रही है। इसके अलावा यहां शंख की कलात्मक चूड़ियां और तांबे व चांदी के सिक्के भी मिल चुके हैं।

मिल सकते हैं 10 बौद्ध स्तूप

पुरातत्व विभाग (Archaeological Department) के अधिकारियों ने संभावना जताई है कि यह प्राचीन काल के गायकवाड़ों और सोलंकियों के मकान हो सकते हैं। इसके पहले नवंबर 2020 में भी यहां खुदाई के दौरान बौद्ध सपूत मिले थे। अधिकारियों का मानना है कि चूंकि वडनगर (Vadnagar) हड़प्पा सभ्यता के पुरातत्व स्थलों में से एक है, तो यहां अभी 10 स्तूप और हो सकते हैं। बता दें कि हड़प्पा सभ्यता भारत कि सबसे प्राचीन सभ्यता मानी जाती है। ऐसे में माना जा सकता है कि वडनगर का इतिहास भी 25000 साल पुराना है। खुदाई के दौरान हाल ही तीसरी व चौथी सदी के बौद्ध स्तूप के अवशेष और 7वीं-8वीं सदी के मानव कंकाल भी मिले थे।

इसे भी पढ़ें:-दो सौ साल पुराने ताबूत के साथ मिला जूस, लोगों ने जताई पीने की इच्छा, जानें क्या है खासियत