कैबिनेट की बैठक में नहीं पहुंचे चार मंत्री, ममता की बढ़ी टेंशन

173

नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल में होने वाले आगामी विधानसभा चुनाव से पहले सीएम ममता बनर्जी की परेशानी कम होने का नाम नहीं ले रही है। पार्टी के नाराज नेता ठीक चुनाव से पहले टीएमसी से अलग होने शुरू हो चुके हैं। इस ही क्रम में अब पार्टी के चार मंत्री कैबिनेट बैठक की हुई बैठक में नहीं पहुंचे, जिसे देख लग रहा है कि, ममता की परेशानी अब और बढ़ने वाली है। चुनाव से ठीक पहले जहां बीजेपी टीएमसी को तोड़ने में लगी हुई है, वहीं चार मंत्रियों का बैठक में न पहुंचना बताता है कि, पार्टी में अभी सब कुछ ठीक नहीं है। वहीं इन चार मंत्रियों के बैठक में न पहुंचने पर टीएमसी महासचिव पार्थ चटर्जी का कहना है कि, तीन मंत्रियों ने बैठक में शामिल न होने पर वैध स्पष्टीकरण दिया है।

इसे भी पढ़ें: पेट्रोल-डीजल की कीमत में आम जनता को मिली ‘बड़ी राहत’, फटाफट जानें आज के दाम 

वहीं चौथे मंत्री राजीव बनर्जी से जरूर अब तक बात नहीं हो पाई है। पिछले दिनों वे अपने बागवती तेवर दिखा चुके हैं। दोमजुर से विधायक राजीव बनर्जी ममता सरकार में वनमंत्री है। जो पिछले दिनों अपनी पार्टी के निशाना साधते हुए नज़र आये थे। बीते नवंबर माह में कोलकाता में हुई एक रैली में उन्होंने कहा था कि, पार्टी में यस मैम वाले ही आगे बढ़ रहे हैं। जो व्यक्ति की निराशा का विषय भी हैं। उन्होंने पार्टी पर भाई भतीजावाद का भी आरोप लगाया है।

पिछले दिनों ममता से नाराज चल रहे सुवेंदु अधिकारी के बयान और राजीव बनर्जी एक जैसे ही है। पार्टी छोड़ने से पहले सुवेंदु ने ममता के भतीजे अभिषेक बनर्जी पर निशाना साधते हुए कहा था कि, पार्टी में नेता अब पैराशूट या फिर लिफ्ट के जरिए ही आगे बढ़ रहे हैं। बंगाल चुनाव से पहले टीएमसी और बीजेपी के बीच जंग काफी बढ़ गई है। चुनाव नजदीक आते देख नेताओं ने कश्ती बदलना शुरू कर दिया है।

इसे भी पढ़ें: चीन की बखिया उधेड़ने के लिए भारत के साथ आया ये देश, अब किसी भी पल खत्म हो सकता है ड्रैगन का खेल