औवैसी ने पश्चिम बंगाल में दी दस्तक, अब्बास सिद्दीकी से मुलाकात कर जाना राज्य का माहौल

52

नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव के दिन जैसे—जैसे करीब आ रहे हैं यहां की सियासत और दिलचस्प होती जा रही है। वैसे यहां मुख्य मुकाबला टीएमसी और भाजपा में माना जा रहा है। लेकिन इससे अन्य दलों की हैसियत को कम नहीं आंका जा सकता है। क्योंकि अन्य राज्यों की तरह यहां भी पूरा विपक्ष भाजपा को हराने के लिए एकजूटता दिखाएंगे। ऐसे में यहां की राजनीति में ओवैसी के आने से मुकाबला और दिलचस्प हो गया है। इसी के तहत आज ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी पश्चिम बंगाल पहुंच गए हैं।

इसे भी पढ़ें: ऑस्ट्रेलिया में टीम इंडिया के खिलाड़ियों ने खाया Beef, सोशल मीडिया पर मचा बवाल

यहां पहुंचने पर ओवैसी ने हुगली जिले के फुरफुरा शरीफ में प्रमुख मुस्लिम नेता अब्बास सिद्दीकी के साथ आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर रणनीतिक चर्चा की। ओवैसी की यहां चुनाव लड़ने की घोषणा करने के बाद वह पहली बार पश्चिम बंगाल की यात्रा पर है। एआईएमआईएम के प्रदेश सचिव कामीरुल हसन ने बताया कि ओवैसी आज की बैठक को गुप्त रखना चाहते थे। क्योंकि हम लोगों को आशंका थी कि ममता सरकार उन्हें हवाईअड्डे से बाहर निकलने से मना कर सकती है। ओवैसी कोलकाता हवाईअड्डे से अब्बास सिद्दीकी से मिलने के लिए सीधे हुगली गए। इसके बाद वह हैदराबाद के लिए निकल गए।

पार्टी सूत्रों की मानें तो ओवैसी ने सिद्दीकी के साथ वर्चुअल बैठक करना चाह रहे थे, लेकिन बाद में उन्होंने अपना मन बदला और उनसे सीधे मिलने के लिए बंगाल पहुंच गए। बता दें कि फुरफुरा शरीफ के पीरजादा (धार्मिक नेता) सिद्दीकी कई मुद्दों पर राज्य सरकार की खिलाफत करते रहते हैं। ज्ञात हो कि ओवैसी की पार्टी ने हाल ही में संपन्न हुए बिहार विधानसभा चुनाव में पांच सीट जीतकर अच्छा प्रदर्शन किया हैं। फिलहाल एआईएमआईएम प्रमुख ओवैसी की फुरफुरा शरीफ की यात्रा पर सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) ने तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। टीएमसी के सांसद सौगत रॉय ने कहा कि औवैसी पर टिप्पणी करते हुए कहा है कि वह भाजपा के छद्म रूप के अलावा कुछ भी नहीं हैं।

इसे भी पढ़ें: बारिश के बीच श्मशान घाट का लेंटर​ गिरने से 12 की मौत, कई दबे, रेस्क्यू ऑपरेशन जारी