spot_img
Saturday, September 18, 2021

पाकिस्तान सीमा के पास उतरे सुखोई-जगुआर जैसे जंगी जहाज, आपात लैंडिंग फील्ड का हुआ उद्घाटन

- Advertisement -
- Advertisement -

जालौर। युद्ध के आपात हालात में पाकिस्तान की सीमा से सटे राजस्थान के जालौर में बाड़मेर हाईवे पर स्पेशल एयरस्ट्रिप (Special Airstrip) की शुरुआत गुरुवार को की गई। वायुसेना के लड़ाकू विमानों सुखोई और जगुआर ने हाइवे पर लैंडिंग की। इसकी शुरुआत रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) और केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) की मौजूदगी में हुई। दोनों केंद्रीय मंत्री भी इस खास कार्यक्रम में वायुसेना के स्पेशल विमान से इसी एयरस्ट्रिप पर आए थे। लगभग 4 किलोमीटर लंबी एयरस्ट्रिप पाकिस्तान की सीमा से सिर्फ कुछ ही दूरी पर है। जहां आसानी से विमान लैंड कर सकेंगे। गुरुवार को इस रनवे पर सुखोई लड़ाकू विमान ने फ्लाइपास किया। इसके साथ ही जगुआर सहित एयरफोर्स के अन्य विमान भी इस दौरान दिखाई दिए।

इसे भी पढ़ें : खुशखबरी : UP के शिक्षामित्रों, अनुदेशकों और रसोइयों का बढ़ेगा वेतन, CM योगी जल्द करेंगे ऐलान

भारत-पाकिस्तान सीमा के बेहद करीब इस एयरस्ट्रिप का फायदा आपातकालीन समय में मिलेगा। वहीं भविष्य में सामरिक रूप से भी इसकी काफी अहमियत होगी। इस तरह की एयरस्ट्रिप हाइवे पर होती है तो उसकी भूमिका भी काफी अहम होती हैं, 4 एयरक्राफ्ट को यहां पर पार्क करने की सुविधा भी होगी। पाकिस्तान के साथ अगर भविष्य में युद्ध होता है भारतीय वायु सेना पल भर में दुश्मनों के दांत खट्टे कर देगी। देश में पिछले कुछ समय से जो नेशनल हाइवे बन रहे हैं। उनमे लगातार इस तरह के एयरस्ट्रिप बनाने पर फोकस कर रहा है।

ये पहला नेशनल हाईवे है, जहां पर इस तरह की एयरस्ट्रिप तैयार हुई है। वहीं इससे पहले उत्तर प्रदेश के लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस-वे पर भी सुखोई लैंड कराया जा चुका है। हाई-वे पर बन रहीं इन एयरस्ट्रिप से वायुसेना ज्यादा तेजी से कम समय में दुश्मनों को जवाब दे सकेगी। लखनऊ-आगरा एक्सप्रेस बनी एयरस्ट्रिप से जहां चीन और पाकिस्तान को जवाब दिया जा सकता है। वहीं बाड़मेर हाईवे पर स्पेशल एयरस्ट्रिप पाकिस्तान को जवाब देने के लिए काफी है।

इसे भी पढ़ें : लखनऊ में लगी धारा 144, विधानसभा के एक किलोमीटर दायरे में नहीं जा सकेंगे ये वाहन

- Advertisement -
spot_img
Latest news
- Advertisement -
Related news
- Advertisement -