जानिए भारत में किस रैंक के अधिकारी को मिलती है सबसे ज्यादा सैलरी और कितनी मिलती हैं सुविधाएं

876

नई दिल्ली। देश के लाखों युवा आंखों में आईएएस और आईपीएस बनने का सपना संजोकर तैयारी करते हैं। इनमें से कुछ ही का सपना साकार हो पाता है और वह आईएएस तथा आईपीएस जैसे अधिकारी बनने में सफल हो पाते हैं। क्योंकि इसकी तैयारी के लिए खुद में टायलेंट होने के साथ-साथ दिन-रात कड़ी मेहनत करनी पड़ती है। देखा जाए तो देश की सबसे कठिन परीक्षाओं में यूपीएससी के सिविल सेवा परीक्षा सबसे टफ है। जबकि सिविल सेवा परीक्षा में टॉप रैंक हासिल करने वाले अभ्यर्थियों का ही आईएएस बनने का सपना पूरा हो पाता है। इंडियन एडमिनिस्ट्रेटिव सर्विस (आईएएस) वह सीढ़ी है जिसके माध्यिम से ब्यूरोक्रेसी में एंट्री होती है। आईएएस के तहत चुने गए अभ्यर्थी ही विभिन्न मंत्रालयों, विभागों व जिलों के प्रशासनिक मामलों के अधिकारी होते हैं।

इसे भी पढ़ें: कोई 12 वीं फेल तो कोई स्कूल ही नहीं गया, जानिये, कितने पढ़े हैं आपके फेवरेट स्टार

भारतीय नौकरशाही के सबसे बड़े पद कैबिनेट सेक्रेटरी तक का सफर एक आईएएस अधिकारी ही कर सकता है। वरीयता क्रम में देश में सेक्रेटरी की पोस्ट 23वें स्थान पर होती है। वहीं मंत्रालयों में सचिव, उप सचिव, ज्वाइंट सचिव जैसे महत्वपूर्ण पद आईएएस आधिकारी को ही मिलते हैं। वहीं पावर और सैलरी की बात की जाए तो आईएएस इसमें भी टॉप पर होते हैं। ऐसे में उनकी सैलरी को जानने को लेकर लोग काफी उत्साहित रहते हैं कि इतनी महत्वपूर्ण जिम्मेदारी संभालने वाले नौकरशाहों को सैलरी कितनी मिलती होगी। आपको बता दें कि एक आईएएस अधिकारी की सबसे बच्छी तनख्वाह होती है। 7वें वेतन आयोग के मुताबिक आईएएस अधिकारी की बेसिक सैलरी 56,100 रुपए प्रतिमाह होती है। इसके बाद टीए डीए अलग से, मतलब नौकरी के शुरुआत से ही एक आईएएस अधिकारी की सैलरी 1 लाख रुपए से अधिक होती है।

जबकि सर्वोच्च पद जैसे कैबिनेट सचिव के लिए ये सैलरी करीब 2,50,000 रुपए प्रतिमाह हो जाती है। सनद रहे कि नौकरशाही में देश में सबसे ज्यादा सैलरी सचिव स्तर के अधिकारियों को ही मिलती है। क्योंकि देश की नौकरशाही में सबसे बड़ा पद कैबिनेट सचिव का होता है इसलिए सबसे अधिक सैलरी भी इनकी होती है। ज्ञात हो कि आईएएस अधिकारी का वेतन स्केल के आधार पर निर्धारित होता है। जैसे कि जूनियर स्केल, सीनियर स्केल, सुपर टाइम स्केल। इसके साथ ही वेतनमानों में अलग-अलग वेतन बैंड भी होते हैं। इतना ही नहीं एक आईएएस अधिकारी को तमाम तरह की सुविधाएं भी मिलती हैं।

इसे भी पढ़ें: इलाहाबाद हाई कोर्ट का बड़ा फैसला, नाजायज संबंध के बावजूद भी मां को बच्चे से नहीं कर सकते अलग