spot_img
Saturday, September 18, 2021

इस वायरस से बचने के लिए गांव में बांटे जा रहे कंडोम, तीन माह तक गर्भधारण से बचें

- Advertisement -
- Advertisement -

राजधानी मुंबई के पुणे जिले के बेलसर में जीका वायरस (Zika Virus) का पहला मामला मिलने के बाद स्वास्थ्य विभाग सावधान हो गया है। इस वायरस से बचने के लिए केंद्र सरकार और राज्य प्रशासन ने पुणे के बेलसर गांव में विभिन्न उपायों को लागू करना शुरू कर दिया है। जिससे कि इस जीका वायरस से बचा जा सके। यहीं नही प्रशासन ने गांव के लोगों से निवदेन किया है कि अगले तीन महीने तक कोई भी महिला गर्भवती न हो। इसके लिए ग्राम पंचायत और स्वास्थ्य विभाग द्वारा ग्रामीणों को कंडोम बांटे जा रहे हैं।

एक्सपर्ट ने किया अगाह

स्वास्थ्य विभाग ने यह जानकारी दी कि एडीज एजिप्टी मच्छर के काटने से फैलता है। गर्भवती महिलाओं को जीका होने का खतरा अधिक होता है। एक्सपर्ट को कहना है कि जीका बच्चे के मस्तिष्क के विकास में बाधा डालता है। यहां तक कि अगर महिला गर्भवती है तो समय से पहेल ही प्रसव भी करा सकता है, इसलिए सावधानी रखना बेहद जरूरी है।

आपको बता दें कि पुणे के पुरंदर तहसील के बेलसर गांव में जीका का पहला मामला सामने आने के बाद अधिकारी सक्रिय हो गए हैं। अधिकारियों ने इससे बचने के लिए कई सुझाव दिए है साथ ही यह भी कहा है कि अलगे तीन माह तक कोई महिला गर्भवती न हो। ज्यादा से ज्यादा संख्या में लोगों को जागरूक किया जा रहा है।

बेलसर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के प्रमुख डॉ. भरत शितोले ने कहा कि जीका दो तरह से फैलता है. यह एडीज एजिप्टी मच्छर के काटने या संक्रमित व्यक्ति के साथ शारीरिक संपर्क से फैल सकता है। जीका वायरस पुरुष के वीर्य में लगभग चार महीने तक जीवित रह सकता है। ऐसे में उस शख्स के संपर्क में आने की वजह से होने वाली गर्भावस्था में शिशु को जीका रोग हो सकता है।

स्वास्थ्य विभाग की ओर से उस गांव के लोगों से अपील की गई है कि वे चार महीने तक गर्भधारण से बचें या कंडोम का इस्तेमाल करें। इसी कारण से गांव के लोगों में कंडोम का वितरण किया जा रहा है। लोगों से कहा गया है कि यह समय घबराने का नहीं है बल्कि संयम से काम लेना है। सावधान रहें और सुरक्षित रहें।

जीका वायरस के लक्षण और डेंगू के लक्षण एक जैसे ही होते हैं, जैसे बुखार आना, शरीर पर चकत्ते पड़ा और जोड़ों में दर्द. बताया गया है कि फिलहाल जीका वायरस का कोई टीका या इलाज नहीं है। जीका वायरस मच्छर, यौन संबंध, गर्भ और खून दान करने से भी फैल सकता है।

इसे भी पढ़ें-राखी सावंत के घर घुसा शख्स, एक्ट्रेस ने ऐसे याद दिलाई नानी, पहुंचाया…

 

 

- Advertisement -
spot_img
Latest news
- Advertisement -
Related news
- Advertisement -