यहां हुआ अब तक का सबसे बड़ा साइबर क्राइम, अपराधियों ने की इतने करोड़ की ठगी

17
cyber-crime

झारखंड। सरकार और पुलिस की लाख कोशिश के बावजूद देश में साइबर क्राइम पर लगाम नहीं लग पा रही है। इसी कड़ी में झारखंड के गढ़वा जिले में अब तक का सबसे बड़ा साइबर क्राइम का मामला सामने आया है। यह साइबर अपराधियों ने विशेष भू अर्जन विभाग में रैयतों को मुआवजा देने के लिए आये धन में से दस करोड़ रुपये उड़ा दिए। इतने बड़े साइबर क्राइम की खबर से पुलिस प्रशासन में हड़कंप मच गया।

इसे भी पढ़ें:-झारखंड हाईकोर्ट से लालू को फिर लगा झटका, इस बार भी नहीं मिली जमानत

जानकारी के मुताबिक यह पैसा झारखंड के गढ़वा जिले के खरौंदी थाना क्षेत्र में स्थित डोमनी नदी पर बनने वाले बैराज के लिए अधिग्रहित जमीनों के मालिकों के मुआवजे के लिए विशेष भू अर्जन विभाग खाते में आया था। डोमनी नदी पर बनने वाले बैराज का शिलान्यास साल २०१४ में तत्कालीन स्थानीय विधायक ने किया था। अब इसके लिए पैसा आने के बाद इसमें सबसे बड़ा घोटाला भी साइबर अपराधियों ने कर दिया। बता दें कि बैराज के आसपास रहने वाले तमाम रैयत लोगों के मुआवजे के तौर पर सरकार ने भेजा था, लेकिन उसमें से साइबर क्राइम के जरिये १० करोड़ रुपये की अवैध निकासी कर ली गयी।

बैठक में उठा अधूरी योजना का मुद्दा

वहीं, ग्रामीण मुआवजे की आस में बैठे हैं। इतने बड़े घोटाले का खुलासा तब हुआ जब क्षेत्रीय विधायक भानु प्रताप साही ने जिला में आयोजित दिशा की बैठक में योजना के अधूरी रहने का मुद्दा सामने आया। बैठक में उन्होंने कहा यह पैसा गरीब किसान का था, इसमें दस करोड़ रूपये किसने निकाल लिए। इसकी जानकारी अभी तक किसी को नहीं हो पायी। उधर पलामू सांसद ने घोटाले की बात को स्वीकार करते हुए कहा कि इस योजना की सीबीआई जांच की जा रही है., जल्द ही मामला सबके सामने आएगा। गढ़वा डीसी राजेश कुमार पाठक ने भी स्वीकार किया है कि यह साइबर क्राइम का मामला है। इसकी जांच की जा रही है, इसके लिए एकमेटी भी बनाई गयी है। जल्द ही सच सामने आएगा।

इसे भी पढ़ें:-झारखंड हाई कोर्ट से लालू को नहीं मिली राहत, जमानत पर सुनवाई 6 हफ्ते के लिए टली