धार्मिक किताबों की आड़ में छापी जा रही ऐसी किताबें, अब हुई कार्रवाई

158
press

उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद जिले के लोनी थाना पुलिस ने ट्रॉनिका सिटी औद्योगिक क्षेत्र में बड़ा मामला सामने आया है। जहां नामी कंपनियों की नकली किताबें (Fake books) छापने वाला प्रिंटिंग प्रेस पकड़ा है। छापे (raid)में स्पैक्ट्रम बुक्स, मैकग्राहिल, केडी पब्लिकेशन, क्रोनिकल बुक्स, यूबीएसपीडी, ओरिएंट ब्लैक स्वान समेत अन्य कंपनियों की करीब चार करोड़ की नकली किताबें बरामद हुई हैं। सूचना मिलने पर पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार करके प्रेस को सील कर दिया है।

इसे भी पढ़ें-बंपर भर्तियां : इन 50 हजार सरकारी नौकरियों में लगी योगी सरकार की मोहर

200 रूपये में भेजता नकली किताब

आरोपी नकली किताबों को धार्मिक किताब छापने की आड़ में यह धंधा करता था। वह नामी कंपनियों की नकली किताब छापकर कम दाम में बेचता था। अगर कपिनयों की किताबों की कीमत 500 रुपये हैं, तो वह उसे 200 में बेचता था। प्रिंटिंग प्रेस संचालक गुल मोहम्मद 12वीं पास है और दिल्ली के दरियागंज का रहने वाला है। प्रेस में ही किताबों की छपाई से लेकर पैकिंग तक का सारा काम होता था। करीब एक साल से प्रिटिंग प्रेस में ये किताबें छापी जा रही थीं। लाखों की मशानों में आरोपी अपने कारीगरों से काम लेता था।

जिन कंपनियों की नकली किताबें छापी जा रही थीं, उनके लीगल एडवाइजर एडवोकेट संजीव कुमार राघव ने बताया कि सूचना मिली थी कि ट्रॉनिका सिटी औद्योगिक क्षेत्र में कई नामी कंपनियों की नकली किताबें धार्मिक किताबों की आड़ में छापी जा रही हैं। जिनकी सप्लाई पूरे देश भर में की जा रही हैं। एडवाइजर ने गुरूवार की रात स्थानीय पुलिस के साथ छापा मारा गया।

छापे में मिली नकली किताबें

प्रेस में छापे के दौरान स्पैक्ट्रम बुक्स, मैकग्राहिल, केडी पब्लिकेशन, क्रोनिकल बुक्स, यूबीएसपीडी, ओरिएंट ब्लैक स्वान समेत कई नामी कंपनियों की नकली किताबें मिलीं। जिसनी कीमत थी चार करोड़। पुलिस ने प्रेस को सील कर दिया। पुलिस को आरोपी संचालक गुल मोहम्मद के खिलाफ तहरीर दी गई है।

आरोपी से पूछताछ की जा रही हैं आरोपी ने कुछ नाम भी बताए है। गिरफ्तार आरोपी ने फिरोज नाम के व्यक्ति से किराए पर बिल्डिंग ले रखी थी। पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज की है। पूछताछ में प्रकाश में आए नामों पर भी कार्रवाई की जाएगी। मुख्य आरोपी गुल मोहम्मद धार्मिक किताब भी छापता था। जिसकी आड़ में वह इन कंपनियों की किताबों को छापता था।

इसे भी पढ़ें-पेट्रोल-डीजल के कीमतों ने तोड़ा रिकार्ड , 12वें दिन भी बढ़े दाम, आम आदमी का बजट हुआ खराब