Saturday, October 16, 2021

Shopian Encounter : शहादत का लिया बदला, सुरक्षाबलों ने शोपियां में ढेर किए तीन आतंकी

- Advertisement -
- Advertisement -

जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) में हुए मुठभेड़ में शहीद हुए हमारे जवानों का सुरक्षाबलों ने बदला ले लिया है। यहां शोपियां (Shopian) में आज एनकाउंटर के दौरान सुरक्षाबलों ने तीन आतंकियों (Terrorist) को मार गिराया है। इनमें से एक आतंकी की पहचान गांदरबल के मुख्तार शाह के रूप में हुई है, जिसने बिहार के एक रेहड़ी वाले वीरेंद्र पासवान की हत्या कर दी थी।

आतंकियों के पास से बरामद हुए हथियार और गोला बारूद

कश्मीर जोन पुलिस ने जानकारी दी है कि शोपियां मुठभेड़ में मारे गए तीनों आतंकी लश्कर-ए-तैयबा (LeT) के हैं। फिलहाल दो आतंकियों की पहचान की जा रही है। पुलिस ने बताया है कि आतंकियों के पास से हथियार और गोला बारूद के साथ ही आपत्तिजनक सामग्री भी बरामद हुए है। फिलहाल आस-पास के जगह पर तलाशी अभियान शुरू किया जा चुका है।

बीते दिन शहीद हुए थे पांच जवान

घाटी में आतंकी एक बार फिर से सिर उठाने की फिराक कर रहे हैं। बीते कई दिनों से आतंकी लगातार घाटी के अल्पसंख्यकों को अपना निशाना बना रहे हैं साथ ही भारतीय सुरक्षाबलों पर हमला कर रहे हैं। कल पुंछ के सूरनकोट एलओसी से सटे इलाके में आतंकियों ने घुसपैठ की कोशिश की थी। सुरक्षाबलों को आतंकियाें के घुसपैठ की खुफिया जानकारी मिलने के बाद कॉर्डन एंड सर्च ऑपरेशन शुरू कर दिया गया। सर्च ऑपरेशन के दौरान आतंकियों के साथ मुठभेड़ शुरू हुई, जिसके बाद सेना के एक JCO और 4 जवान गंभीर रूप से घायल हो गए। तुरंत घयल सैनिकों को अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां इलाज के दौरान वह शहीद हो गए।

कहां के रहने वाले थे शहीद जवान?

नायब सूबेदार जसविंदर सिंह(जेसीओ)- पंजाब के कपूरथला जिले के माना तलवंडी गांव के रहने वाले थे।
नायक मनदीप सिंह- पंजाब के गुरदासपुर जिले के चाल्हा गांव के रहने वाले थे।
सिपाही गज्जन सिंह- पंजाब के रोपड़ जिले के पंचन्द्रा गांव के रहने वाले थे।
सिपाही सरज सिंह- यूपी के शाहजहांपुर जिले के अख्तयारपुर धवकल गांव के रहने वाले थे।
सिपाही वैशाख एच- केरल के कोल्लम जिले के ओदानवट्टम गांव के रहने वाले थे।

जवानों के साथ-साथ आम लोगों को निशाना बना रहे हैं आतंकी

आतंकवादियों का यह नया हथकंडा है जिससे वह लोगों में दहशत फैला सके। ऐसा करके वह देश के जवानों और नेताओं के साथ-साथ आम लोगों को अपना निशाना बना रहे हैं और उनमें भी गैर मुस्लिमों को पहचान करके उनको मारा जा रहा है। आर्टिकल 370 हटाए जाने के बाद जम्मू कश्मीर में आतंक का तेजी से सफाया जरूर हुआ था, लेकिन इस साल बदली हुई रणनीति से आतंकवाद फिर पैर फैलाने के प्रयास में है।

आपको बता दे कि 2021 के इन 10 महीनों में घाटी में 103 आतंकी हमले हो चुके हैं, जिसमें 22 आम नागरिकों की जान जा चुकी है तो 30 जवान शहीद हुए, इसके साथ ही हमारे जांबाज जवानों ने 134 आतंकियों को भी ढेर किया है।

इसे भी पढ़ें-कटघरे में UP पुलिस, ई-रिक्शा चालक की पीट-पीटकर कर हत्या का लगा आरोप

 

- Advertisement -
Latest news
- Advertisement -
Related news
- Advertisement -