लाल किला उपद्रव: भारी पुलिस बल के बीच किसान महारैली में पहुंचा एक लाख का इनामी

97
LAKKHA SIDHANA

पंजाब। 26 जनवरी को किसान ट्रैक्टर परेड के दौरान आईटीओ और लाल किले समेत दिल्ली के कई स्थानों पर हुई हिंसा का आरोपी लक्खा सिधाना मंगलवार को भारी पुलिस बल के बीच किसान महारैली में पहुंच गया। लक्खा सिधाना पर एक लाख का इनाम भी घोषित है, फिर भी पंजाब पुलिस ने उसे पकड़ने की जहमत नहीं उठाई।

इसे भी पढ़ें:-26 जनवरी हिंसा के आरोपी सिधाना ने अब पंजाब के युवाओं से की अपील

बता दें कि मंगलवार को पंजाब के बठिंडा में स्थित सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह का पैतृक गांव महराज में कृषि कानूनों के विरोध में किसान महारैली का आयोजन किया गया। इस दौरान किसान महारैली में दिल्ली हिंसा एक मुख्य आरोपी लक्खा सिंह सिधाना भी मंच पर मौजूद रहा, जबकि यहां भारी संख्या में पुलिस बल तैनात था। लक्खा पर एक लाख का इनाम भी दिल्ली पुलिस ने घोषित किया है। रैली में शिरकत कर रहे किसानों ने कहा कि यदि दिल्ली पुलिस यहां आयी तो वह उसका घेराव करेंगे, लेकिन सूत्र बताते हैं कि बठिंडा के महाराज गांव में हुई किसान महारैली में पंजब पुलिस के साथ दिल्ली पुलिस के जवान भी मौजूद है लेकिन बठिंडा पुलिस ने इसकी पुष्टि नहीं की है।

किसानों से की थी अपील

गौरतलब है कि 26 जनवरी को लाल किले पर हुई हिंसा के बाद से लक्खा सिधाना फरार चल रहा है, लेकिन सोशल मीडिया के जरिये वह किसान आंदोलन को लेकर वह अक्सर अपने वीडियो शेयर करता रहता है। कुछ दिन पहले ही लक्खा सिधाना ने एक वीडियो जारी कर किसानों से अपील की थी कि किसान आंदोलन की बागडोर पंजाब के किसान अपने हाथ में लें। वीडियो में उसने कहा था किसान आंदोलन पंजाब से उठा था लेकिन अब यह दूसरों के हाथों में जा रहा है। उसने कहा था किसान संगठन बिखर रहे हैंइसे और मजबूत करने की आवश्यकता है। इसके साथ ही उसने 23 फरवरी को बठिंडा के महराज गांव में होने वाली रैली में किसानों से बढ़-चढ़ कर भाग लेने की बात कही थी।

इसे भी पढ़ें:-दिल्ली पुलिस ने सिद्धू समेत आठ आरोपियों के खिलाफ घोषित किया एक-एक लाख का इनाम