संसद से लेकर जंतर-मंतर तक नए कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन, बढ़ाई गई सुरक्षा

0
36

नई दिल्ली। कृषि कानूनों (Agricultural Laws) के खिलाफ संसद के मानसून सत्र (Monsoon Session) के दौरान किसनों का प्रदर्शन दिल्ली के जंतर-मंतर (Jantar Mantar) पर शुरू हो चुका है। संसद भवन से सिर्फ कुछ ही मीटर की दूरी पर मौजूद जंतर-मंतर की सुरक्षा कड़ी कर दी गई है। कांग्रेस सांसदों के साथ राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने संसद परिसर में गांधी प्रतिमा के सामने प्रदर्शन किया है। सुरक्षा के कड़े इंतजामों के बीच 200 किसानों का एक ग्रुप बसों में सिंघू बॉर्डर से जंतर-मंतर पहुंचा है। जंतर मंतर पर पुलिस के आलावा अर्द्धसैनिक बल के जवानों को तैनात किया गया है। दिल्ली में 26 जनवरी को ट्रैक्टर परेड के दौरान हुई हिंसा के बाद यह पहला मौका है जब किसान दिल्ली के अंदर प्रदर्शन कर रहे हैं और अधिकारियों ने किसानों को राजधानी में प्रवेश करने की अनुमति दी है।

इसे भी पढ़ें: यूपी में सभी ग्राम पंचायतों में बनेंगे सचिवालय, 58,189 कंप्यूटर ऑपरेटरों की होगी तैनाती

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष सांसद राहुल गांधी ने पार्टी के सांसदों के साथ कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग करते संसद भवन परिसर में महात्मा गांधी की प्रतिमा के सामने प्रदर्शन किया। राहुल के आलावा लोकसभा में कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी, मनीष तिवारी, रवनीत बिट्टू, गौरव गोगोई राज्यसभा सांसद प्रताप सिंह बाजवा के आलावा कई सांसद इस धरने में शामिल हुए। कांग्रेस सांसदों ने ‘काले कानून वापस लो’ और ‘प्रधानमंत्री न्याय करो’ के नारे भी लगाए।

आम आदमी पार्टी के सांसद भगवंत मान ने सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि ‘ सरकार के पास कृषि कानूनों को वापस लेने आलावा और अन्य विकल्प नहीं है। वहीं केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा है कि किसानों से बातचीत करने के लिए हम तैयार है। वो बस कानून वापस लेने की बात न करें। कृषि कानूनों को लेकर हो रहे विरोध प्रदर्शन को लेकर बीजेपी सांसद मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि ‘मुद्दों, तथ्यों और तर्कों को लेकर किसी भी आंदोलन का स्वागत है लेकिन कुछ लोग किसानों के कंधे पर बंदूक रखकर आंदोलन कर रहे हैं।

इसे भी पढ़ें: केंद्र पर बरसीं मायावती, कहा- ऑक्सीजन की कमी से मौतें न होने का दावा करना दुर्भाग्यपूर्ण