अब घर बैठे बनेगा लर्निंग लाइसेंस, फर्जीवाड़े पर भी लगेगी लगाम, जानें क्या है नया सरकारी नियम

133
learners-licence

नई दिल्ली। अब लर्निंग लाइसेंस बनवाने के लिए किसी को भी क्षेत्रीय परिवहन कार्यालयों (RTO) के चक्कर नहीं लगाने पड़ेंगे। केंद्र सरकार अब यह सुविधा घर बैठे देने जा रही है। केंद्र सरकार परिवहन क्षेत्र की कुल 16 सेवाओं को ऑनलाइन करने जा रही है। लर्निंग लाइसेंस बनवाने के लिए उपभोक्ताओं को सरकारी पोर्टल पर अपन आधार नबंवर प्रमाणीकरण कराना होगा।

इसे भी पढ़ें:-अगर की यह पांच गलती तो रद्द हो जाएगा आपका ड्राइविंग लाइसेंस

गौरतलब है कि गत 29 जनवरी को सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय ने देश भर के सभी राज्यों से इस मामले में 15 दिन के भीतर सुझाव और आपत्ति मांगी है। इसके बाद इस नियम को फरवरी 2020 में लागू किया जायेगा। इस बारे में जानकारी देते हुए एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि कोरोना महामारी की गंभीरता को देखते हुए सभी क्षेत्रीय परिवहन कार्यालयों को संपर्क रहित बनाया जा रहा है। आरटीओ के ऑनलाइन हो जाने के बाद उपभोक्ता घर बैठे नया लर्निंग ड्राइविंग लाइसेंस, नवीनीकरण, डुप्लीकेट डीएल, डीएल व वाहन पंजीकरण प्रमाण पत्र में पता बदलना, अंतरराष्ट्रीय ड्राइविंग परमिट, अस्थायी वाहन पंजीकरण, पंजीकरण के लिए एनओसी, डुप्लीकेट पंजीकरण प्रमाण पत्र, वाहन ट्रांसफर आदि कार्य करा सकेंगे।

कामकाज में आएगी पारदर्शिता 

उन्होंने बताया कि आधारकार्ड का प्रमाणीकरण हो जाने के बाद ड्राइविंग लाइसेंस और वाहनों के पंजीकरण के लिए कई प्रकार के प्रमाणपत्रों की आवश्यकता नहीं पड़ेगी। इससे राज्यों के आरटीओ के कामकाज में पारदर्शिता आएगी। उक्त कार्यालयों को ऑनलाइन करने के लिए सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय से मंजूरी मिल गई है।बता दें कि इस नई व्यवस्था से ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने में किया जा रहा फर्जीवाड़ा रुकेगा। वहीं, चोरी के वाहनों का पुन: दूसरे राज्य में पंजीकरण कराने का गोरखधंधा बंद होगा।

इसे भी पढ़ें:-आधार की मदद से घर बैठे बनवा सकेंगे लर्निंग ड्राइविंग लाइसेंस, RTO के चक्कर लगाने से मिलेगा छुटकारा