खट्टर का ऐलान, अगर MSP के साथ होगी कोई छेड़खानी, तो छोड़ दूंगा राजनीति

115

किसानों के बढ़ते आक्रोश के बीच  हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा कि किसानों को लगातार यह कहकर गुमराह किया जा रहा है कि केंद्र सरकार द्वारा लाए गए  कृषि कानूनों से एमएसपी पर खतरा पैदा हो जाएगा, लेकिन मैं अभी स्पष्ट किए देता हूं कि  अगर इन कानूनों के लागू होने के बाद एमएसपी पर खतरा होता है , तो मैं राजनीति छोड़ दूंगा। उन्होंने कहा कि यह लोग महज अब राजनीतिक हितों के लिए अन्नदाताओं को गुमराह करने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन इनकी मंशा कभी सफल नहीं  होगी। हमारी सरकार आगामी 2022 तक किसानों की आय को दोगुुनी करने के लिए प्रतिबद्ध है और  इस दिशा में हमारी सरकार लगातार प्रयासरत है। इसी दिशा में यह कृृषि कानून लाया गया है, मगर अब चंद लोग अपने राजनीतिक स्वार्थ के लिए किसानों को गुमराह कर रहे हैं। ये भी पढ़े :किसानों के आंदोलन पर सोनू सूद का बड़ा बयान, कहा-  यह सब देखकर बहुत दुखी हूं  इसलिए अब..

विरोध करने का अधिकार है, लेकिन..
मख्यमंत्री ने कहा कि एक लोकतांत्रिक देश में हर किसी को अपने विचार व्यक्त करने का अधिकार है, लेकिन अपने विचारों को व्यक्त करने का यह कोई तरीका नहीं है। आप मीडिया का सहारा लेकर या विधानसभा या फिर संसद में अपने विचारों को व्यक्त कर सकते हैं। जब कोई कानून अपने बनने की प्रक्रिया में हो तब आप इसका विरोध कर सकते हैं, लेकिन जब यह स्थिति पूरी तरह  मुकम्मल हो जाए तो फिर आप इसका विरोध नहीं कर सकते है। अगर ऐसा होगा तो फिर हमारी लोकतांत्रिक शासन व्यवस्था पर सवाल उठने शुरू हो जाएंगे।

गौरतलब है कि पिछले एक महीने से पंजाब व हरियाणा के किसान दिल्ली की सीमाओं पर विरोध प्रदर्शन के लिए जमा हो चुके हैं। वे सरकार द्वारा बनाए गए कनूनों का विरोध कर रहे हैं। वे सरकार से इन कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग कर रहे हैं।  वहीं सरकार का दो टूक कहना है कि इन कानूनों को वापस नहीं लिए जाएंगे। हां… यदि  इन कानूनों के कुछ प्रावधानों में से आपको किसी पर आपत्ति है तो हम इस पर विचार करेंगे, लेकिन इन कानून को पूर्णत: वापस नहीं लिया जा सकता है। ये भी पढ़े :किसान आंदोलन को लेकर केजरीवाल और कैप्टन के बीच छिड़ी जंग, जानें पूरा माजरा