वर्ष के आखिरी में भी पीएम मोदी ने वोकल फॉर लोकल से लेकर आत्मनिर्भर भारत पर दिया जोर

38

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने इस साल के रेडियो प्रोग्राम ‘मन की बात’ में ‘वोकल फॉर लोक’ और ‘आत्मनिर्भर भारत’ पर जोर देते हुए देशवासियों से इन दोनों अभियानों को मुकाम तक ले जाने की अपील की है। उन्होंने वर्ष 2020 के अंतिम कार्यक्रम में गुरु गोविंद सिंह के पुत्रों के शहादत दिवस के साथ-साथ गीता जयंती का भी उल्लेख करते हुए कहा कि इस देश ने अत्याचारियों और आतताइयों के सामने कभी झुकना कबूल नहीं किया। इस दौरान प्रधानमंत्री ने वन और पर्यावरण से लेकर स्वच्छ भारत मिशन पर भी अपने विचार रखे।

इसे भी पढ़ें: केंद्र की गलतियों की वजह से रूस की तरह टूट जाएगा भारत, संजय के लेख पर बीजेपी ने शिवसेना को घेरा

प्रधानमंत्री ने कहा कि कोरोना के चलते दुनिया में सप्लाई चेन को लेकर कई तरह की दिक्कतें आईं, लेकिन हमने हर संकट से कुछ न कुछ सबक लिए। इसके साथ ही देश में नया सामर्थ्य भी पैदा हुआ। शब्दों के रूप में देखा जाए तो इस सामर्थ्य का नाम है- आत्मनिर्भरता। मेरा देश के निर्माताओं और उद्योग जगत के नेताओं से अनुरोध है कि संकट के इस दौर में देश के लोगों ने मजबूत कदम आगे बढ़ाया, वोकल फॉर लोकल आज हर घर में गूंज रहा है। ऐसे वक्त में अब यह सुनिश्चित करना होगा कि हमारे उत्पाद विश्वस्तरीय हों। जो भी ग्लोबल बेस्ट है, उसे हम भारत में बनाकर दिखाएं। इसे सफल बनाने के लिए हमारे उद्यामी साथियों को आगे आना है। साथ ही स्टार्टअप को भी आगे आना है।

उन्होंने देशवासियों से आग्रह करते हुए कहा कि आप भी एक सूची बनाएं। हम अपने उपयोग में आने वाली चीजों की विवेचना करें और यह सुनिश्चित करें कि अनजाने में कौन-सी विदेश में बनी चीजों ने हमारे जीवन में प्रवेश कर लिया है। भारत में बने इनके विकल्पों के बारे में पता करें और यह तय करें कि आगे हम भारत में बने उत्पादों का ही इस्तेमाल करेंगे। हम लोगों में से अधिकतर लोग हर साल नए साल पर रिजॉल्यूशन लेते हैं, इस बार एक संकल्प अपने देश के लिए भी लें। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा- मेरे प्यारे देशवासियों, हमारे देश में आतताइयों और अत्याचारियों से देश की हजारों साल पुरानी संस्कृति, सभ्यता, हमारे रीति-रिवाज को बचाने के लिए कितने बड़े बलिदान देने पड़े हैं। ऐसे में आज उन्हें याद करने का भी दिन है। आतताइयों ने आज ही के दिन गुरु गोविंद जी के पुत्रों, साहिबजादे जोरावर सिंह और फतेह सिंह को दीवार में जिंदा चुनवा दिया गया था।

इसे भी पढ़ें: PMO से मिली शिकायत के बाद UP में सीज होंगे ऐसे वाहन, परिवहन आयुक्त ने दिए आदेश