महा कुंभ 2021: 11 और 16 फरवरी को आ रहे हैं हरिद्वार, तो रखना होगा इन बातों का ध्यान, वरना पड़ जायेंगे परेशानी में

22
KumbhMela2021

हरिद्वार। 27 फरवरी से शुरू होने महापर्व को लेकर प्रशासन ने तैयारियां तेज कर दी है। इसी कड़ी में 11 फरवरी को पड़ने वाली मौनी अमावस्या और 16 फरवरो को पड़ने वाले बसंत पंचमी पर होने वाले स्नान और कुम्भ मेले को लेकर एसओपी जारी कर दी गयी है। एसओपी के मुताबिक कुंभ के पर्व स्नान के लिए आने वाले श्रद्धालुओं को 72 घंटे पहले कोविड मुक्त होने संबंधी आरटीपीसीआर जांच रिपोर्ट लानी होगी, जिन श्रद्धालुओं के पर आरटीपीसीआर जांच रिपोर्ट नहीं होगी उन्हें बॉर्डर से ही लौटा दिया जायेगा। साथ ही कुंभ की वेबसाइट www.haridwarkumbhmela2021.com पर आवेदन करना अनिवार्य होगा।

यह भी पढ़ें:- पीएम मोदी ने विपक्ष पर साधा निशाना, किसानों से की आंदोलन खत्म करने की अपील, MSP को लेकर कही ये बात

बता दें कि इस बार महाकुंभ 12वें की जगह 11वें साल में ही उत्तराखंड के हरिद्वार में आयोजित किया रहा है, लेकिन कोरोना महामारी को देखते हुए प्रशासन ने कोरोना से बचाव संबंधी गाइड लाइन भी जारी की है। इस बारे में हरिद्वार के नव नियुक्त जिलाधिकारी सी रविशंकर ने बताया कि गंगा स्नान के दौरान भी छह फुट की सामाजिक दूरी, मास्क और सेनेटाइर आवश्यक होगा। डीएम ने बताया कि मौनी अमावस्या और बसंत पंचमी स्नान के लिए जिला प्रशासन ने तैयारी शुरू कर दी है। चप्पे-चप्पे पर सुरक्षा व्यवस्था चाक चौबंद की जा रही है। कुंभ में शाही स्नान को लेकर भी पूरी एहतियात बरती जायेगी। वहीं 11 और १६ फरवरी को होने वाले स्नान भी केंद्र की एसओपी के अनुसार ही होंगे।

स्नान के लिए बाहर से आने वाले श्रद्धालुओं को आरटीपीसीआर जांच की 72 घंटे पहले की कोरोना की निगेटिव रिपोर्ट लाना अनिवार्य होगा। बिना इसके श्रद्धालुओं को सीमा के भीतर प्रवेश नहीं दिया जायेगा। हालांकि स्थानीय लोग कोरोना रिपोर्ट की बाध्यता से मुक्त होंगे। उधर एसएसपी हरिद्वार सेंथिल अवूदई कृष्णराज एस ने बताया क़ि मौनी अमावस्या के एक दिन पहले यानी 10 फरवरी से जिले की सभी सीमाओं पर चेकिंग शुरू कर दी जाएगी।

बिना नेगेटिव रिपोर्ट के किसी को नहीं आने दिया जाएगा। इसके साथ ही इस बात का भी ख्याल रखा जाएगा क़ि स्थानीय लोगों को किसी भी तरह की समस्या का सामना न करना पड़े। वहीं सुरक्षा व्यवस्था भी मजबूत की जा रही है, चप्पे-चप्पे पर कड़ी नजर रखी जा रही। Read also:- दिल्ली पुलिस के हत्थे चढ़ा लाल किले पर हुई हिंसा का मुख्य आरोपी दीप सिद्धू