संक्रमण से ठीक हो चुके शिवराज चौहान भी नहीं लगवाएंगे कोरोना की वैक्सीन, जानें क्या बताई वजह

34

भोपाल। ऐसे समय में जब लोगों को यह उम्मीद है कि अगले कुछ दिनों में कोरोना की वैक्सीन लगनी शुरू हो जाएगी, तब जिम्मेदार राजनेताओं की तरफ से इस पर राजनीति करना दुर्भाग्यपूर्ण है। सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव, कांगेस नेता शशि थरूर, राशिद अल्वी की तरफ से गढ़े जा रहे कुतर्क जनता और कोरोना जैसी महामारी पर उनकी गंभीरता को दर्शाता है। वहीं मध्य प्रदेश मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी कहा कि वह अभी कोरोना की वैक्सीन नहीं लगवाएंगे। उन्होंने कहा कि जो लोग प्राथमिकता समूह में सबसे पहले आते हैं, उनको पहले यह वैक्सीन लगनी चाहिए।

इसे भी पढ़ें: रॉबर्ट वाड्रा के दफ्तर पहुंची इनकम टैक्स की टीम, बेनामी संपत्ति से जुड़े मामले में कर रही है पूछताछ

एक समाचार एजेंसी के मुताबिक सीएम शिवराज ने कहा है कि मैंने यह फैसला किया है कि मैं अभी कोरोना की वैक्सीन नहीं लगवाऊंगा। पहले इसे प्राथमिकता समूह वाले लोगों को लगाया जाना चाहिए। इसके बाद मेरा नंबर आएगा। अभी हमें यह सुनिश्चित करने की दिशा में काम करना है कि प्राथमिकता समूह में आए लोगों को पहले वैक्सीन मिले। जबकि मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कोरोना वायरस से जंग जीत चुके है, बावजूद इसके उन्होंने इसके लिए जनता को सर्वोपरि रखा। बता दें कि कंट्रोलर जनरल आफ इंडिया की तरफ से भारत निर्मित दो वैक्सीनों को आपात इस्तेमाल को दे दी गई है। इससे अगले कुछ समय में पूरे देश में कोरोना वैक्सीनेशन का काम व्यापक स्तर पर शुरू हो जाएगा।

गौरतलब है कि कोरोना वैक्सीन पर विपक्ष राजनीति करने से बाज नहीं आ रहा है। विपक्ष की तरफ से पहले जहां कोरोना वैक्सीन के आने की देरी को लेकर सवाल किया जा रहा था। वहीं अब जब वैक्सीन लगने का समय करीब आ रहा है तो लोगों को गुमराह करने का काम शुरू कर दिया गया है। सरकार के हर काम में कमी देखने वाली कांग्रेस पार्टी को इसमें भी सियासत नजर आ रही है। सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव वैक्सीन को जहां भाजपा की बता कर न लगवाने की बात कर रहे हैं, वहीं कांग्रेस नेता राशिद अल्वी ने कहा है कि विपक्ष पर वैक्सीन का गलत इस्तेमाल किया जा सकता है।

इसे भी पढ़ें: पूर्वी लद्दाख में बढ़ा तनाव, भारतीय चौकियों के सामने चीन ने तैनात किए आधुनिक टैंक