घोड़ी पर सवार दुल्हन पहुंची दूल्हे के घर, खुशी से झूमें बाराती

196

नई दिल्ली। बारात में दूल्हे को घोड़ी पर सवार होकर दुल्हन के घर जाते सभी ने देखा है। ऐसा करीब-करीब सभी शादियों में होता है, लेकिन आपने कभी दुल्हन को घोड़ी पर सवार होकर दूल्हे के घर बारात ले जाते हुए शायद ही कभी देखा हो। ठीक, ऐसा ही कुछ हुआ है, मध्य प्रदेश के सतना में। जहां वलेचा परिवार की बेटी घोड़ी पर सवार होकर पूरे गाजे बाजे के साथ धूमधाम से कोटा की तरफ अपने दूल्हे के घर की बढ़ी।

सदियों से जो परम्परा चली आ रही है कि, दूल्हा घोड़ी पर सवार होकर दुल्हन को लेने जाता है, उसे यहां तोडा गया समाज को एक सदेश देने के लिए कि, बेटियां बेटों से किसी भी तरह कम नहीं हैं और न ही वो कोई बोझ हैं।दीपा वलेचा अपने परिवार की इकलौती बेटी है। परिवार की ख्वाहिश थी कि, उनकी बेटी घोड़ी पर चढ़कर दूल्हे के घर के लिए रवाना हो और बेटी ने ठीक ऐसा किया भी।

घोड़ी पर सवार होकर न‍िकली दुल्हन, बारात‍ियों ने जमकर लगाए ठुमके

दीपा का कहना है कि, उन्होंने इस बारे में कभी भी नहीं सोचा था कि, घोड़ी पर चढ़कर अपनी बारात में जाएंगी। ये सब कुछ तो उनके परिवार के लोगों ने प्लान किया था, जिसे देखकर वो काफी खुश भी हुईं कि, परिवार के सदस्य उनके बारे में इतना सोचते हैं। मीडिया से बात करते हुए दीपा ने कहा कि, मैं तो सिर्फ के मैसेज देना चाहती हूं कि, अपने परिवार के लिए लड़कियां कभी भी बोझ नहीं होती हैं।

घोड़ी पर सवार होकर न‍िकली दुल्हन, बारात‍ियों ने जमकर लगाए ठुमके

लड़कियां भी लड़कों के बराबर ही होती है। सभी को ऐसा सोचना चाहिए। लड़कियों को भी लड़कों के बराबर ही घर में प्यार मिलना चाहिए। वलेचा परिवार का कहना है कि, कई वर्षों के बाद उनके परिवार में बेटी का जन्म हुआ था। वो अपनी बेटी को बेटे से भी अधिक प्यार करते हैं। वो अपनी बेटी की बारात निकाल कर समाज को एक सन्देश देना चाहते हैं कि, बेटियां कल भविष्य हैं। उनका सम्मान करें।

इसे भी पढ़ें: कंगना की कमाई पर पड़ा किसान आंदोलन का असर, बोलीं एक महीने में गंवाए इतने करोड़ के प्रोजेक्ट