JNU के बाहर लटका ताला, हॉस्टल खाली करने के दिए निर्देश

454

नई दिल्ली। भारत में कोरोना का कहर जारी है अब तक 195 लोग इस वायरस से संक्रमित हो चुके हैं तो वहीं चार लोगों को इससे अपनी जान गंवानी पड़ी है। देश में वायरस के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) को भी अब 31 मार्च तक के लिए बंद कर दिया गया है। सभी छात्रों को भी आदेश दे दिया गया है कि वह जल्द हॉस्टल भी खाली दें। बीते गुरुवार को जेएनयू के रजिस्ट्रार प्रमोद कुमार ने बताया कि विश्वविद्यालय 19 मार्च से 31 मार्च तक बंद रहेगा। विश्वविद्यालय से जुडी सभी गतिविधियां 31 मार्च तक लिए बंद रहेंगी। जिसमे प्रशासनिक सेवाएं और हॉस्टल भी शामिल है।

इसे भी पढ़े: निर्भया कांड: फांसी से ठीक पहले जिंदगी की भीख मांगने लगा विनय, कहा- माफ कर दो

मानव संसाधन विकास मंत्रालय (MHRD) ने बीते गुरुवार को एक आदेश जारी कर देश की सभी शिक्षण संस्थानों से अपने छात्रों और शिक्षकों के साथ इलेक्ट्रॉनिक माध्यमों से संपर्क बनाए रखने और उन्हें कोरोना संक्रमण के बारे में समुचित जानकारी देते रहने का निर्देश दिए हैं। मंत्रालय ने साफ़ निर्देश देते हुए कहा है कि सभी शिक्षण संस्थान जल्द ही हेल्पलाइन नम्बर और ईमेल आईडी अपने छात्रों को उपलब्ध कराएं। ताकि छात्र इन दिए गए नंबर पर संपर्क करके अपने प्रश्नों का सही जवाब पा सकें।

कोरोना वायरस की रोकथाम और बचाव के लिए यूजीसी की ओर से छात्रों के लिए एक एडवाइजरी जारी की गई हैं। कहा गया है कि सभी विश्वविद्यालय अपने यहां चल रही परीक्षाओं को फ़िलहाल के लिए स्थगित कर दें। साथ ही मूल्यांकन प्रक्रियाएं को भी स्थगित किया जा चुका है। देश के सभी विश्वविद्यालयों और कॉलेजों से यह अनुरोध किया गया है कि कोरोना के संक्रमण से बचने के लिए एहतियाती बरते। किसी को भी वायरस से डरने की कोई जरुरत नहीं है।

इसे भी पढ़े: निर्भया को आज मिला इंसाफ, चारों दोषियों को सुबह 5.30 हुई फांसी