अगर आप भी हो गए हैं कोविड का शिकार तो घबराएं नहीं, जानें होम आइसोलेशन का सही तरीका, झट हो जाएंगे ठीक

125
covid 19

दुनिया भर के लिए दहशत का पर्याय बन चुकी कोरोना महामारी से निपटने के लिए वैसे तो तमाम वैज्ञानिक और चिकित्सक लगे हुए हैं लेकिन अभी तक किसी को भी सफलता नहीं मिल पाई है। इस वायरस की चपेट में आकर अब लाखों लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। वहीं लाखों लोग अस्पतालों में रहकर अपना इलाज करा रहे हैं। इस वायरस में बचाव के लेकर तमाम डॉक्टर सोशल मीडिया के माध्यम से कुछ एहतियात बरतने की सलाह दे रहे हैं। आइए जानते हैं क्या हैं वो एहतियात और अगर आपकी भी कोरोना की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है तो कैसे होम क्वारंटाइन में रहकर खुद को स्वस्थ करना है।

इसे भी पढ़ें:-कोरोना संक्रमित मरीज होम आइसोलेशन में ऐसे करें इलाज, बच्चों के लिए भी स्वास्थ्य मंत्रालय जारी की नई गाइडलाइन

डॉक्टर्स के मुताबिक अगर आप किसी कोरोना संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आ गये है और आपको भी कोरोना संक्रमण के लक्षण जैसे बुखार, नाक बहना, जुकाम, गले में खराश, सिर दर्द, बदन टूटना, उल्टी, डायरिया, त्वचा पर चकत्ते, स्वाद, गंध का न आना और आंख लाल होना आदि नजर आ रहे हैं तो सबसे पहले आप खुद को होम क्वारंटाइन कर लें।

  • कोरोना से बचाव के लिए आवश्यक है हाथों को अच्छे से धोएं, चेहरे पर मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें।
  • लक्षण दिखते ही नजदीकी हेल्थ सेंटर पर जाकर अपनी जांच करवाएं। रिपोर्ट मिलने तक खुद को घरवालों से भी अलग रखें।
  •  समय-समय पर ऑक्सीजन लेवल चेक करते रहें। अगर का ऑक्सीजन लेवल 94 या उससे ऊपर रहता है तो आप खुद को होम क्वारंटाइन कर सकते हैं। इलाज के लिए अस्पताल के चक्कर लगाने की आवश्यकता नहीं है। ध्यान रखें लक्षण दिखने के शुरूआती यानी कि 4-5 दिन किसी तरह का कोई ब्लड टेस्ट करवाने की जरूरत नहीं है।

ये होते हैं हाई रिस्क पेशेंट

  • 60 सालसे अधिक की आयु वालों को इस वायरस से अधिक रिस्क है।
  •  जिन्हें पहले से हार्ट, किड़नी, कैंसर या फिर गुर्दे की कोई बीमारी हैं या फिर वे लोग जो किसी तरह की कोई थेरेपी ले रहे हैं।

सलाह

कोविड के लक्षण दिखते ही सबसे पहले खुद को दूसरों से अलग कर लें। कोरोना वायरस को लेकर जारी गाइड लाइन का पालन करें। लक्षणों पर नजर रखें। लक्षण दिखने पर तत्काल जांच कराएं। अगर आप हाई रिस्क वालों की श्रेणी में आते हैं तो लक्षण दिखते ही डॉक्टर से सलाह लें। इसके साथ ही विटामिन सी, विटामिन डी, जिंक जैसी दवाएं लेते रहे,यह दवाएं कोविड संक्रमण से उभरने में मदद कर सकती हैं, लेकिन इनका इस्तेमाल बगैर डॉक्टर की सलाह के न करें।

आइसोलेशन में इन बातों का ध्यान रखें।

  • डॉक्टर की सलाह जरुर लें।
  • डॉक्टर का नंबर अपने पास रखें।
  • भाप लें और नमक वाले पानी से गरारा करते रहें।
  • डॉक्टर की सलाह से ही दवा लें।
  • कोविड के इलाज के दौरान कोविड प्रोटोकॉल का पालन अवश्य करें।
  • हल्के लक्षण दिखने पर घर पर ही डॉक्टर की निगरानी में इलाज शुरू कर दें।
  • खुद का इलाज स्वयं ना करें। डॉक्टर से परामर्श जरूरी लें।
  • लक्षण के अनुसार बुखार, उल्टी, डायरिया आदि का भी उपचार करें।
  • बुखार के लिए पैरासिटामोल लें।
  • डॉक्टर की सलाह से विटामिन सी, विटामिन डी, जिंक आदि दवा ले सकते हैं।
  • खूब पानी और तरल पदार्थ का सेवन करें ।

    कब जांचे ऑक्सीजन लेवल

डॉक्टर का कहना है कि जिन लोगों को छाती में अधिक कन्जेस्चन महसूस हो, तेज खांसी और बुखार हो तो पीड़ित को अपना ऑक्सीजन लेवल चेक करना जरूरी हो जाता है। वहीं दवा लेने के बाद जब बुखार कम हो जाए तब भी ऑक्सीजन लेवल जांचें। कुछ देर चलने के बाद और चलने से पहले ऑक्सीजन लेवल जरुर चेक करें।

इसे भी पढ़ें:-कोरोना संक्रमण के बाद आप खुद को महसूस कर रहे अस्वस्थ तो अपनाए ये टिप्स