Thursday, June 17, 2021

अगर आप भी लगवाने जा रहे हैं वैक्सीन तो जान लें यह जरूरी बात, वरना हो जाएगी यह समस्या

- Advertisement -spot_img
- Advertisement -spot_img

नई दिल्ली। भारत में कोरोना महामारी की तबाही के बीच वैक्सीनेशन का काम भी तेजी से हो रहा है। देश में अब तक 14 करोड़ 19 लाख से अधिक लोगों का वैक्सीनेशन किया जा चुका है लेकिन अभी यह टीकाकरण सिर्फ 45 वर्ष से अधिक की आयु तक के लोगों पर ही किया जा रहा है। देश में हो रहे टीकाकरण के बारे में जानकारी देते हुए स्वास्थ्य मंत्रालय में संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने बताया कि वर्तमान समय में 45 साल से अधिक की आयु के नौ करोड़ 79 लाख से ज्यादा लोगों को कोविड वैक्सीन की पहली डोज और एक करोड़ से अधिक लोगों को वैक्सीन की दोनों डोज दी जा चुकी है। वहीं एक मई से 18 वर्ष से अधिक के सभी लोगों का वैक्सीनेशन किया जायेगा।

इसे भी पढ़ें:-18 वर्ष से अधिक वैक्सीनेशन अभियान को लेकर इन चार राज्यों ने किया इनकार, कहा

ऐसे में अब यह जान लेना आवश्यक है कि किन-किन लोगों पर वैक्सीन का साइड इफेक्ट पड़ सकता हैं और उन्हें नहीं लेनी चाहिए। देश में दो कंपनियों की वैक्सीन लगाईं जा रही है को वैक्सीन और कोविशील्ड। इन दोनों ही कंपनियों की तरफ से फैक्टशीट जारी की गई है, जिसमें यह जानकारी दी गई है कि किन-किन लोगों को वैक्सीन नहीं लगवानी चाहिए। आइये सबसे पहले जानते हैं को वैक्सीन के बारे में। कोवैक्सीन एक स्वदेशी वैक्सीन है। इसका निर्माण भारतीय कंपनी भारत बायोटेक ने किया है। को वैक्सीन को लेकर कंपनी द्वारा जारी फैक्टशीट में बताया था कि अगर किसी व्यक्ति को वैक्सीन में प्रयोग हुई किसी विशेष सामग्री से एलर्जी है तो उन्हें ये वैक्सीन नहीं लगवानी चाहिए।

 किन लोगों को नहीं लगवानी चाहिए कोवैक्सीन

फैक्टशीट में बताया गया है कि अगर आपको कोवैक्सीन की पहली डोज लेने के बाद किसी भी तरह की एलर्जी या दिक्कत महसूस हो रही है तो दूसरी खुराक नहीं लेनी चाहिए। इस संबंध में डॉक्टर से मशवरा करना चाहिए। इसके अतिरिक्त अगर आप कोविड पॉजिटिव हैं और तेज बुखार है, तो भी यह वैक्सीन नहीं लेनी चाहिए।   वहीं जो लोग कोवैक्सीन की पहली डोज नहीं लिए हैं उन्हें इसकी दूसरी डोजभीं नहीं लेनी चाहिए, बल्कि उन्हें दूसरी डोज भी उसी कंपनी की लेनी चाहिए जिसकी उन्होंने पहली खुराक ली है। इसके अलावा गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को भी कोवैक्सीन का टीका नहीं लगवाना चाहिए।

 किन लोगों को नहीं लगवानी चाहिए कोविशील्ड

भारत में इस्तेमाल की जा रही कोरोना की दूसरी वैक्सीन कोविशील्ड को ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और एस्ट्राजेनेका कंपनी ने बनाया है और इसका उत्पादन सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया कर रही है।  कोविशील्ड के फैक्टशीट के मुताबिक जिन लोगों को वैक्सीन ने इस्तेमाल किसी विशेष सामग्री से एलर्जी है तो उन्हें कोविशील्ड वैक्सीन नहीं लगवानी चाहिए। गर्भवती और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को भी यह टीकाकरण नहीं कराना चाहिए।

दोनों कंपनियों की फैक्टशीट में कहा गया है कि अगर आप वैक्सीनेशन कराने जा रहे हैं तो अपनी सेहत संबंधी सभी जानकारियां अपन डॉक्टर (हेल्थकेयर प्रोवाइडर) को अवश्य बता दें, जैसे कि बुखार, एलर्जी की दिक्कत, अपनी मेडिकल कंडीशन या अगर आपने कोई और वैक्सीन ली है तो उसकी भी जानकारी दें। हां बच्चों को अभी यह वैक्सीन नहीं लगाई जा रही है, क्योंकि उनपर अभी टेस्टिंग नहीं की गई है। ऐसे में बच्चों को यह टीका न लगवाएं।

इसे भी पढ़ें:-अगर आप वैक्सीन लगवाने जा रहे है तो इन बातों का रखें ध्यान, जानें

- Advertisement -spot_img
Latest news
Related news