जानें 2021 में कैसा रहेगा अर्थव्यवस्था का हाल, विशेषज्ञ दे रहे हैं ऐसे संकेत 

33

कोरोना काल में चौपट हुई देश की अर्थव्यवस्था को नई उड़ान देने की कोशिश जारी है।  2020 के मुश्किल दौर में जहां बेरोजगारी अपने शबाब पर पहुंची तो वहीं घरेलू विकास दर भी शिथिल रहा। लेकिन, अब जब हम 2021 में दस्तक दे चुके हैं तो फिर  से अर्थव्यस्था को पुन: पटरी पर लाने के साथ-साथ इसे अपने  ऊंचाई पर ले जाने की कोशिश भी जारी है। इस दिशा में सकारात्मक नतीजे भी सामने आ रहे हैं। 2021 में अर्थव्यवस्था का कैसा हाल रहेगा। इसे लेकर विशेषज्ञ विभिन्न तरीके से अपने मत पेश कर रहे  हैं। ये भी पढ़े :वित्त मंत्री ने की तीसरी किश्त का ऐलान, किसाना पर रहा केंद्रित, कृषि इन्फ्रास्ट्रक्चर को दिया 1लाख करोड़ रुपए

2021 में ऐसा रहेगा जीडीपी का हाल 
वहीं 2021 में अर्थव्यवस्था में तेजी का अनुमान जताया जा रहा है। विशेषज्ञों के मुताबिक,   इस वर्ष सकल घरेलू उत्पाद में 9 फीसद तक की उछाल दर्ज की जा सकती है। रेटिंग एजेंसी इंडिया रेटिंग्स की रिपोर्ट के मुताबिक 2021-22 में देश की जीडीपी वास्तविक आधार पर 147.17 लाख करोड़ रुपये रहने का अनुमान है। इस संदर्भ में राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय के आंकड़ों के मुताबिक,  2011-12 के मूल्य पर 2019-20 में देश की अर्थव्यवस्था का आकार 145.66 लाख करोड़ रुपये था। रेटिंग एजेंसी  का कहना है कि चालू वित्त वर्ष में अर्थव्यवस्था के 7.8 प्रतिशत घटकर 134.33 लाख करोड़ रुपये रह जाने की संभावना है।

इसके साथ ही 2021 में अर्थव्यवस्था का कैसा हाल रहेगा। इस बारे में नीति आयोग का कहना है कि वित्त वर्ष 2021-22 में भारत की अर्थव्यवस्था 10 फीसदी की दर से बढ़ेगी। आयोग के मुताबिक, 2021  के आखिरी  तक देश की अर्थव्यवस्था कोरोना के पहले जैसी हो जाएगी। फिर, इसमे पहले जैसी तेजी शुरू हो जाएगी। विशेषज्ञों का एक और तर्क है कि कोरोना वैक्सीन आने के  बाद  अर्थव्यवस्था के हालात और  अधिक दुरूस्त हो जाएंगे। इसके बाद कई उद्दयोगों में तेजी दर्ज की जाएगी। बहरहाल, अर्थव्यवस्था में मुकम्मल तेजी दर्ज की जा सके। इस दिशा में पुरजोर कोशिश जारी है। ये भी पढ़े :कोरोना वैक्सीन में देरी अर्थव्यवस्था के लिए पड़ेगा भारी, जानिए कितना लुढ़क सकती है जीडीपी