सरकार ने ट्विटर को दी चेतावनी, नियमों का उल्लंघन पड़ सकता है भारी

26
ट्विटर

सरकार ने ट्विटर(Twitter) द्वारा हो रहे नियमों के उल्लंघन को लेकर अकाउंट बंद करने का निर्देश दिया है। भारत में ही अपने दिए हुए निर्देश के तहत(Under instruction) ट्विटर के कुछ अकाउंट पर रोक लगाई है। हालांकि, सामाजिक कार्यकर्ताओं, राजनीतिज्ञों एवं मीडिया के ट्विटर हैंडल(Twitter handle) को ब्लॉक नहीं किया है क्योंकि ऐसा करने से अभिव्यक्ति की आजादी के मूल अधिकार का उल्लंघन होगा।

इसे भी पढ़ें-बॉलीवुड क्वीन कंगना को पछाड़ दीपिका ने हासिल किया ये खिताब

कानूनी विकल्पों पर ट्विटर करेगा विचार

ट्विटर ने सरकार के दिए निर्देश को अपनाते हुए कहा कि वह अपने उपयोगकर्ताओं की अभिव्यक्ति की आजादी का समर्थन करना जारी रखेगी। ट्विटर पूरी सक्रियता से भारतीय कानून के तहत विकल्पों पर विचार करेगी, जो ट्विटर एंव उपयोगकर्ताओं को खातों को प्रभावित कर रहे हैं। सरकार ने ट्विटर के कुछ ऐसे अकाउंट को बंद करने का आदेश दिया है, जो चल रहे किसान आंदोलन के तहत गलत एवं भड़काऊ सूचनाएं शेयर कर रही है। ऐसा नहीं करने पर सरकार ने कानूनी कार्रवाही की भी चेतावनी दी है। ट्विटर ने ब्लॉगपोस्ट में कहा कि नुकसानदेह सामग्री कम नजर आए इसके लिए उसने कदम उठाए हैं। ट्विटर ने इन उपायों की जानकारी इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय को भी दी है।

ट्विटर ने रेखांकित किया कि उसने इलेक्ट्रॉनिक्स एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के सभी आदेशों के तहत 500 से अधिक अकाउंट पर कार्रवाई की है। नियमों को तोड़ने पर सारे अकाउंट स्थायी रूप से बंद कर दिए जाएंगे।

126 अकाउंट को किया ब्लॉक

सूत्रों ने बताया कि 257 ऐसे ट्विटर हैंडल्स हैं, जिन्होंने#ModiPlanningFarmerGenocide हैशटैग के साथ पोस्ट किया था, कुछ ही दिन पहले इनमें से 126 अकाउंट्स को ब्लॉक कर दिया गया है।  इतना ही नहीं ऐसे 1,178 हैंडल्स पर सरकार को शक है कि वो खालिस्तानी, पाकिस्तानी तत्वों से जुड़े हुए हैं, जो गलत सूचना लोगों तक पहुचां रहे हैं, ऐसे 583 अकाउंट्स को ब्लॉक कर दिया गया है। यदि फिर भी ऐसा करते हैं, तो  आईटी एक्ट की धारा 69A(3) के तहत ट्विटर के उच्च अधिकारियों को सात साल की जेल हो सकती है।

सूचना एवं प्रोद्योगिकी मंत्रालय की ओर से कहा गया कि ट्विटर  को एक माध्यम के रूप में प्रयोग करें। इसलिए भारत सरकार निर्देशों का पालन करना उसकी जिम्मेदारी है। ट्विटर अगर ऐसा करने से मना करता है तो उसे इसका खामियाजा भुगतना होगा।

इसे भी पढे़ं-सलमान को हो सकती है सात साल की सजा! इस मामले में दिया था झूठा हलफनामा