छह फरवरी को चक्का जाम करेंगे किसान, दिल्ली पुलिस इस तरह रोकेगी रास्ता

52
farmers-protest-at-ghazipur-border

नई दिल्ली। तीन नए कृषि कानूनों के विरोध में देश में हजारों किसान दिल्ली की सीमाओं पर आंदोलन कर रहे हैं। इन किसानों की मांग है की तीनों नए कानून वापस लिए जाएं और एमएसपी कर कानून बनाया जाये। इसी बीच संयुक्त किसान संयुक्त किसान मोर्चा ने आगामी छह फरवरी को देश भर में चक्का जाम का ऐलान किया है। किसानों के इस एलान के बाद अब दिल्ली पुलिस सतर्क हो गयी है और दिल्ली की सभी सीमाओं की मजबूत घेरेबंदी में लग गयी है।

इसे भी पढ़ें:-कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों की ट्रैक्टर रैली शुरू, राजपथ पर करेंगे परेड

गौरतलब है कि बीते दिनों दिल्ली में किसान ट्रैक्टर परेड के दौरान हुए उपद्रव के बाद दिल्ली पुलिस किसानों के साथ सख्ती से निपटने की तैयारी कर रही है। वहीं अब पुलिस की कोशिश है की किसान दिल्ली के भीतर किसी भी हालत में घुसने न पाए। इसी सतर्कता के चलते दिल्ली पुलिस ने सिंघू, टिकरी और गाजीपुर बॉर्डर पर कई लेयर बैरिकेडिंग कर दी है और कटीले तार अलग दिए हैं। वहीं दिल्ली पुलिस ने मेन रोड पर कई जगह लोहे की कीलें ठोंक दी है। इसके साथ ही पुलिस ने कई जगह सीमेंट वाल्स भी है। दिल्ली कि सीमाओं पर धरना दे रहे किसान सरकार से आरपार कि लड़ाई के मूड में है। कृषि कानूनों को लेकर न तो किसान झुकने को तैयार हैं और नहीं सरकार इन्हें वापस लेने के मूड में नजर आ रही है।

राकेश टिकैत के आंसुओं ने भरा जोश

बता दें कि 26 जनवरी के दिन लाल किले पर किसान ट्रैक्टर परेड के दिन हुई हिंसा के बाद एक बार तो आंदोलन कमजोर पड़ता नजर आया और बॉर्डर पर से किसानों के टेंट तंबू उखड़ने लगे,लेकिन अचानक रात में किसान नेता राकेश टिकैत के आँसुओं ने भरा एक वीडियो वायरल हुआ, जिसने किसानों में फिर से एक नया जोश भर दिया और व वापस दिल्ली बॉर्डर पर लौट पड़े। धरना फिर से पूरे जोर से शुरू हो गया। अब किसानों ने छह फरवरी को देश भर में चक्का जाम का ऐलान कर दिया।

इसे भी पढ़ें:-ट्रैक्टर परेड हिंसा को लेकर कांग्रेस सांसद शशि थरूर और अन्य के खिलाफ दिल्ली में भी केस दर्ज