हिमाचल प्रदेश में सामने आया अरबों का फर्जी डिग्री घोटाला, 17 राज्यों से जुड़े हैं तार

48
MANAV BHARTI TRUST

हिमाचल प्रदेश। देश में घोटालों की एक लंबी लिस्ट है। अक्सर कोई न कोई घोटाला सामने आ ही जाता है। आज हिमाचल प्रदेश में फर्जी डिग्री का एक बड़ा घोटाला सामने आया है। इस घोटाले से देश के 17 में राज्यों में हड़कंप मच गया। इस घोटाले के पर्दाफाश होते ही एसआईटी की टीम ने एक साथ 75 जगहों पर छापेमारी की और 275 लोगों से पूछताछ की। वहीं पुलिस ने इस घोटाले के मुख्य आरोपी मानव भारती ट्रस्ट ट्रस्ट के चेयरमैन राजकुमार राणा को गिरफ्तार कर लिया है।

इसे भी पढ़े:-यूपी में किसान सम्मान निधि में बड़ा घोटाला, ढाई लाख से अधिक अपात्रों को दिया गया लाभ

मिली जानकारी के मुताबिक हिमाचल प्रदेश के सोलन स्थित मानव भारती विश्वविद्यालय में एक बड़ा घोटाला सामने आया है। फर्जी डिग्रियों का यह घोटाला 194 करोड़ 17 लाख का बताया जा रहा है। इस घोटालें के तार देश के17 राज्यों तक फैले हैं। वहीं एसआईटी को अंदेशा हैं कि यह घोटाला और भी बड़ा हो सकता है। इसके तार और भी राज्यों में फैले होने कोई संभावना है। इस घोटाले की कहानी कैसे लिखीं गयी, इस बात की भी जांच एसआईटी की टीम ही करेगी। पुलिस के एक अधिकारी ने हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला में आयोजित प्रेस कांफ्रेंस में इस घोटाले की परत दर परत पार्टी खोलनी शुरू की तो सब हैरान रह गए। डीजीपी संजय कुंडू और उनकी टीम मानव भारती विश्वविद्यालय में चल रहे फर्जी डिग्री के घोटाले के तार खोलकर रख दिए।

मात्र 11 साल में खड़ा किया 440 करोड़ का साम्राज्य

पुलिस की जाँच में खुलासा हुआ कि मानव भारती विश्व विद्यालय में कुलम 41 हजार से में 80 फीसदी में ज्यादा छात्रों डिग्रियां फर्जीं है। इस फर्जी डिग्रियों के कारोबार के चलते ट्रस्ट के अध्यक्ष राजकुमार राणा ने मात्र 11 साल में 440 करोड़ का साम्राज्य खड़ा कर लिया। पुलिस ने इस बड़े घोटाले के कर्ताधर्ता राजकुमार राणा को गिरफ्तार कर लिया है।  हिमाचल पुलिस की एसआईटी टीम के साथ ईडी, आयकर विभाग समेत प्रमुख जांच एजेंसियों ने इस घोटाले का खुलासा किया, लेकिन इस घोटाले ने शिक्षा व्यवस्था पर कई सवाल खड़े कर दिए हैं।

इसे भी पढ़े:-यूपी में प्रधानमंत्री आवास योजना में हुआ बड़ा घोटाला, हजारों अपात्रों को मिला घर