Saturday, December 4, 2021

ब्लैक फंगस के डर से दंपति ने जिंदगी को कहा अलिवदा, दोनों की थी यह आखिर इच्छा

- Advertisement -
- Advertisement -

कोरोना वायरस से संक्रमित होने के बाद लोगों में एक नई बीमारी ब्लैक फंगस तेजी से फैल रहा है। कई मामले सामन भी आए। कोरोना की तरह इस बीमारी से भी लोगों की मौत हो रही थी इसमें लोगों की आंखो को निकालना पड़ रहा था। एक ऐसा ही मामला सामने आया है। मामला यह है कि कर्नाटक में ब्लैक फंगस के डर से एक शादीशुदा जोडे़ं ने सुसाइड कर लिया। बताया जा रहा है कि दोनों पति-पत्नी कोरोना संक्रमित हो गए थे। अपने सुसाइड नोट में पति ने लिखा कि मेरी पत्नी डायबटीज की पेसेंट है और ऐसा सुनने में आया है कि कोरोना से संक्रमित मधुमेह रोगी भी ब्लैक फंगस से संक्रमित होंगे और अपने अंगों को खो देंगे।

सुसाइड नोट में पति ने यह भी लिखा कि हमे ऐसा लगा कि इससे काफी कीमत चुकानी पड़ेगी और इसलिए हम अपनी जिंदगी को खत्म कर रहे हैं। मृतकों की पहचान रमेश (40) और गुना आर सुवर्णा (35) के रूप में हुई है। दोनों मैंगलोर के बैकम्पाद्यो के एक अपार्टमेंट में रह रहे थे। रमेश की पत्नी डायबटीज की मरीज थी।

पिछले एक हफ्ते में दोनों में कोविड-19 संक्रमण के लक्षण दिखाई दे रहे थे। सुसाइड से पहले पति-पत्नी ने शहर के पुलिस आयुक्त एन शशि कुमार को एक ऑडियो मैसेज भी भेजा। इस ऑडियो मैसेज में दंपति ने कहा कि ब्लैक फंगस को लेकर वह काफी डरे हैं, इसलिए वो दोनों अपनी जिंदगी को खत्म कर रहे है। यह फैसला दोनों का है।

हालांकि ऑडियो सुनने के बाद पुलिस कमिश्नर ने उनसे कोई भी गलत फैसला लेने से मना किया। कहा ऐसे मामले में जल्दबाजी करना ठीक नहीं। उन्होंने (कमिश्नर) मीडिया समूहों के माध्यम से दंपति को खोजने और उनकी जान बचाने का भी अनुरोध किया। इस बीच पुलिस अपार्टमेंट में पहुंची और पाया कि दोनों ने आत्महत्या कर ली है।

सुसाइड नोट पर यह भी लिखा था कि गुना मेरी पत्नी कभी मां नहीं बन सकती थी जिसकी वजह से वह लोगों के बीच नहीं आती जाती थी क्योंकि सब उससे बच्चे को लेकर सवाल किया करते थे। बच्चे को लेकर भी वह काफी परेशान रहती थी।

डेथ नोट में लिखा था, ‘मैंने और मेरे पति ने यह फैसला साथ मिलकर किया है, हम शरण पंपवेल और सत्यजीत सुरथकल से हिंदू रीति-रिवाजों के अनुसार हमारा अंतिम संस्कार करने की अपील कर रहे हैं। हमने इसके लिए 1 लाख रुपये रखे हैं, मैं पुलिस आयुक्त एन शशि कुमार, शरण पंपवेल और सत्यजीत सुरथकल से हमारे अंतिम संस्कार में मदद करने का अनुरोध कर रहा हूं।

डेथ नोट में आगे लिखा था, मैं चाहता हू कि ‘घर का सारा सामान गरीबों में बांट देना चाहिए और यह हमारे माता-पिता के किसी काम का नहीं है, हम अपने घर के मालिकों से माफी मांगते हैं।’

इस मामले में हेल्थ मिनीस्टर मंत्री सुधाकर ने कहा कि मैंगलोर में एक दंपति ने कोविड के सकारात्मक परीक्षण के बाद सुसाइड कर लिया है, यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि ऐसा हुआ है, कर्नाटक में 28 लाख लोग कोविड से ठीक हो चुके हैं। इसके बाद दंपति ने ऐसा कदम उठाया।

इसे भी पढ़ें-प्रिंटेड बिकिनी में दिखा Moni Roy का हॉट लुक, पेड़ों की आड़ में दिए गजब के पोज

 

 

- Advertisement -
Latest news
- Advertisement -
Related news
- Advertisement -