‘धन्य हो सरकार’..जिसने किसानों की आय को दोगुना करने के लिए उठाया ऐसा कदम 

36

आज जब खेतों में फसल उगाने वाले किसान सड़कों पर अपने हक की आवाज उठाने के लिए सरकार के खिलाफ लामबंद हो चुके हैं। तब सरकार लगातार अपनी हर उस कोशिश को अंजाम तक पहुंचाने की जुगत में जुटी है,  जिससे किसानों को फायदा पहुंच सके। अब इसी कड़ी  में सरकार ने किसानों की आय को दोगुना करने की दिशा में बड़ा कदम उठाया है। विगत बुधवार  को पीएम मोदी की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट बैठक में किसानों के हित में  एक बड़ा फैसला लिया गया। इस फैसले के तहत  अब अनाजों से भी एथोनॉल का उत्पादन किया जाएगा।  इससे पहले तक महज गन्ने से ही एथोनॉल का उत्पादन किया जाता रहा है, लेकिन अब सरकार के इस फैसले के बाद अनाजों से भी एथोनॉल का उत्पादन किया जाएगा। इस फैसले से किसानों की आय दोगुनी होगी। विगत बुधवार को हुई कैबिनेट बैठक में केंद्र सरकार अनाज से एथोनॉल बनाने के प्रस्ताव को मंजूरी दे चुकी है। इस दिशा में इथेनॉल उत्पादन करने वाली नई कंपनियों को 4,573 करोड़ रुपये की ब्याज सब्सिडी देगी। ये भी पढ़े :किसानों को कंपनी ने लगाया करोड़ों का चूना, मंडी रेट से ज्यादा में खरीदी फसल, चेक हुआ बाउंस

क्या होता हे ये एथोनॉल ?  
यहां हम आपको बताते चले कि एथोनॉल एक तरह का एल्कोहल होता है। आमतौर पर इसका इस्तेमाल पेट्रोल में मिलाकर गाड़ियों के ईंधन में किया जाता है।  अभी तक महज गन्ने से ही एथोनॉल का उत्पादन  किया जाता रहा है , मगर अब सरकार के इस फैसले के बाद गेहूं, चावल, मक्का से भी एथोनॉल का उत्पादन किया जाएगा। जिससे कि भविष्य की जरूरतें  पूरी  की जा सके।

भविष्य में हैं इसकी जबरदस्त डिमांग 
सरकार का यह फैसला इसलिए अहम माना जा रहा है , चूंकि भविष्य में इसकी जबरदस्त डिमांड है , जिसे  ध्यान में रखते हुए अगर अनाज से एथोनॉल का उत्पादन किया जाने लगा तो इससे किसानों की  आय दोगुनी होगी। आगामी भविष्य में  1000 करोड़ लीटर इथेनॉल की जरूरत होगी। इससे  भारत की निर्भरता दूसरे देशोंं में कम पड़ जाएगी और इस दिशा में भारत  खुद आत्मनिर्भर हो जाएगा।  एक आंक़ड़े के मुताबिक,  साल 2013-14 में भारत ने 1500 करोड़ रुपये का इथेनॉल खरीदा था। ये भी पढ़े :किसानों ने पंजाब में तोड़े 1500 से ज्यादा मोबाइल टावर, अमरिंदर कर रहे कार्रवाई करने की बात