हड़कंप: तेजी से फैल रहा है कोरोना का सबसे घातक वेरिएंट, इस राज्य में मिले 90 से भी ज्यादा मामले

0
47

नई दिल्ली। देश में कोरोना (Corona) के सबसे घातक वेरिएंट डेल्टा प्लस के मामले काफी तेजी से सामने आने लगे हैं। त्रिपुरा में 90 से ज्यादा संक्रमितों में कोरोना का डेल्टा वेरिएंट मिला है। राज्य से लिए गए 151 सैंपल्स को पश्चिम बंगाल में जीनोम सिक्वेंसिंग के लिए भेजा गया था। कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों से सरकार की चिंता बढ़ने लगी है। त्रिपुरा में कोविड -19 के एक नोडल अधिकारी डॉ. दीप देव वर्मा ने बताया है कि जीनोम सिक्वेंसिंग के लिए 151 आरटी-पीसीआर सैंपल्स त्रिपुरा ने पश्चिम बंगाल में भेजे थे, जिसमे से 90 से ज्यादा मामलों में कोरोना का डेल्टा प्लस (Delta Plus) वेरिएंट मिला है।

इसे भी पढ़ें: ब्लॉक प्रमुख चुनाव में कांटे की टक्कर, इन जिलों में बीजेपी उम्मीदवारों ने निर्विरोध दर्ज की जीत

कोरोना के नए वेरिएंट के लगातार सामने रहे मामलों को देखकर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की चिंता बढ़ गयी है। बुधवार को मंत्रालय ने कहा था कि 35 प्रदेशों और केंद्र शासित राज्यों के 174 जिलों में SARS-CoV-2 कोरोना वायरस का वेरिएंट मिला है, जिसके सबसे ज्यादा मामले दिल्ली, पंजाब, महाराष्ट्र, गुजरात, पश्चिम बंगाल और तेलंगाना में मिले है। कोरोना संक्रमण लगातार अपने रूप बदल रहा है और जिस तरह देश में नया वेरिएंट अपने पैर फैला रहा है। उसे देख माना जा रहा है कि संक्रमण की तीसरी लहर ज्यादा दूर नहीं है।

उत्तर प्रदेश में भी कोरोना के डेल्टा वेरिएंट के दो मामले सामने आ चुके हैं। गोरखपुर की एमबीबीएस छात्रा (23) कोरोना के डेल्टा प्लस वेरिएंट से संक्रमित पाई गई थी। जो होम क्वारंटाइन थी और बाद में ठीक हो गई। वहीं दूसरा मामला देवरिया जिले से सामने आया, जहां एक 66 वर्षीय बुजुर्ग भी डेल्टा प्लस वेरिएंट से संक्रमित थे लेकिन उनकी इलाज के दौरान मौत हो गई।

एक्सपर्ट्स का साफ़ कहना है कि कोरोना संक्रमण का डेल्टा प्लस वेरिएंट पिछले सभी वेरिएंट से ज्यादा घातक है, जिस पर वैक्सीन भी कुछ खास असरदार नहीं है। देश में कोरोना की दूसरी लहर की सुनामी अभी शांत भी नहीं हुई थी कि डेल्टा के बदले स्वरूप ने विकराल रूप लेना शुरू कर दिया है।

इसे भी पढ़ें: जनसंख्या नियंत्रण का ड्राफ्ट हुआ तैयार, दो से अधिक बच्चे होने पर नहीं मिलेगी ये सुविधाएं