दो टीकों के आपात इस्तेमाल को मिली मंजूरी, पीएम ने कहा— कोविड मुक्त भारत की मुहिम को मिलेगा बल

21

नई दिल्ली। भारत के औषध महानियंत्रक (डीसीजीआई) की तरफ से ऑक्सफोर्ड के टीके ‘कोविशील्ड’ और भारत बायोटेक के ‘कोवैक्सीन’ के सीमित आपात इस्तेमाल को मंजूरी मिल गई है। कोविड—19 रोधी दो टीकों के आपात इस्तेमाल को मंजूरी मिलने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसे कोरोना वायरस के खिलाफ भारत की जंग में निर्णायक जंग बताते हुए कहा कि इससे कोविड मुक्त भारत को बल मिलेगा। प्रधानमंत्री ने ट्वीट करते हुए कहा कि सभी प्रत्येक भारतीय के लिए गर्व की बात है कि देश में जिन दो टीकों के आपात इस्तेमाल की मंजूरी मिली है, वह भारत में निर्मित हैं।

इसे भी पढ़ें: अखिलेश को सता रहा भाजपा की वैक्सीन का डर, लगवाएंगे सपा की वैक्सीन

प्रधानमंत्री ने इसके लिए देश को, वैज्ञानिकों और नवोन्मेषकों को बधाई देते हुए कहा कि यह आत्मनिर्भर भारत के सपने को पूरा करने के लिए हमारे वैज्ञानिक समुदाय की इच्छाशक्ति को दर्शाता है। वह आत्मनिर्भर भारत, जिसका आधार है- सर्वे भवन्तु सुखिनः सर्वे सन्तु निरामया। उन्होंने संकट की इस घड़ी में असाधारण सेवा भाव के लिए डॉक्टरों, चिकित्साकर्मियों, वैज्ञानिकों, पुलिसकर्मियों, सफाईकर्मियों और सभी कोरोना योद्धाओं के प्रति एक बार फिर कृतज्ञता जाहिर करते हुए कहा कि देशवासियों का जीवन बचाने के लिए हम सदा इन कोरोना योद्धाओं के आभारी रहेंगे।

पीएम मोदी ने ट्वीट करते हुए लिखा कि वैश्विक महामारी के खिलाफ भारत की जंग में एक निर्णायक क्षण! सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया और भारत बायोटेक के टीकों को डीसीजीआई की मंजूरी मिलने से स्वस्थ और कोविड मुक्त भारत की मुहिम को बल मिलेगा। भारत के औषध महानियंत्रक (डीसीजीआई) ने सीरम इंस्टिट्यूट ऑफ इंडिया की तरफ से निर्मित ऑक्सफोर्ड के कोविड-19 टीके ‘कोविशील्ड’ और भारत बायोटेक के स्वदेश में विकसित टीके ‘कोवैक्सीन’ के देश में सीमित आपात इस्तेमाल को रविवार को स्वीकृति प्रदान कर दे दी है, जिससे व्यापक स्तर पर टीकाकरण अभियान का रास्ता साफ हो गया है।

इसे भी पढ़ें: यूपी के इन शहरों में झमाझम बारिश के आसार, लुढ़केगा पारा, बढ़ेगी गलन