आने से पहले विवादों में घिरी कोरोना की पहली वैक्सीन, जाने क्या है वजह?

92

नई दिल्ली। कोरोना वायरस के लगातार संक्रमण से जहां एक तरफ पूरा विश्व परेशान है तो वहीं इससे निजात पाने के लिए विश्व के तमाम शक्तिशाली देशों में इसकी वैक्सीन बनाने के होड़ में लग गए है। इस होड़ में रूस सबसे आगे निकल चुका है। उसने एलान किया है कि 10 अगस्त तक वो वैक्सीन का रजिस्ट्रेशन करा लेगा और अक्टूबर से बड़े स्तर पर इसका उत्पादन भी शुरू हो जाएगा। साथ ही साथ वैक्सिनेशन प्रोग्राम भी चलता रहेगा। हालांकि एकदम गुप्त तरीके से बनी इस रशियन वैक्सीन के बारे में बहुतों को खास जानकारी नहीं। ये क्या है, किसने बनाई और क्या ये ह्यूमन ट्रायल से गुजरी है- जानिए, इसके बारे में सबकुछ। वैक्सीन मॉस्को के मॉस्को के गामेल्या इंस्टीट्यूट ऑफ एपिडेमियोलॉजी और माइक्रोबायोलॉजी में बनाई गई है। हालांकि रूस ने वैक्सीन की तैयारी का काम गुप्त तौर पर किया। एक ओर जहां दूसरे देश अपने यहां वैक्सीन को लेकर प्रयोगों और हर तरह के डेवलपमेंट की जानकारी दे रहे थे। रूस ने लंबी चुप्पी साधी हुई थी। इसी बीच जून में वैक्सीन पर ह्यूमन ट्रायल का पहला चरण शुरू हो गया।

यह भी पढ़ें:-अमित शाह भी कोरोना संक्रमित पाए गए, खुद ट्वीट कर दी जानकारी

स्पूतनिक की रिपोर्ट के मुताबिक शुरू में मॉस्को की लैब में दो अलग-अलग फॉर्म के टीके पर प्रयोग हो रहा था, जिनमें एक तरल और एक पावडर के रूप में था। शुरूआती ट्रायल में दो ग्रुप बने, जिनमें हरेक में 38 प्रतिभागी थे। इनमें से कुछ को वैक्सीन दी गई, जबकि कुछ को प्लासीबो इफैक्ट के तहत रखा गया। यानी उन्हें कोई साधारण चीज देते हुए ऐसे जताया गया, जैसे दवा दी जा रही हो। प्रतिभागियों को मॉस्को के ही दो अलग-अलग अस्पतालों में निगरानी में रखा गया। दूसरे देशों से ट्रायल में शामिल ज्यादातर लोगों की घर से ही निगरानी हो रही थी, वहीं रूस इस मामले में अलग रहा। उसने हर प्रतिभागी को आइसोलेशन में रखते हुए जांच की।

यह भी पढ़ें:-नई शिक्षा नीति कैसे सुधरेगा बच्चों का भविष्य समझे, पीएम मोदी के शब्दों में

अब रूस अपने देश के लिए इसका रजिस्ट्रेशन करवाने जा रहा है। अप्रूवल के साथ ही वो हफ्तेभर के भीतर रूसी लोगों के लिए डोज तैयार करने वाला है। वहीं सितंबर में दूसरे देशों से भी रूस अप्रूवल की बात करेगा। दूसरे देशों से सहमति मिलने के बाद वहां के लिए भी दवा का उत्पादन होने लगेगा। माना जा रहा है कि हर्ड इम्युनिटी के लिए रूस में से 4 से 5 करोड़ आबादी को टीका देना होगा। ये रूस की लगभग 60 प्रतिशत आबादी होगी। चूंकि इतनी वैक्सीन एक साथ बनाना मुमकिन नहीं, इसलिए रूस प्राथमिकता के आधार पर वैक्सीन देगा।

यह भी पढ़ें:-राम मंदिर निर्माण में इस्तेमाल की जाएगी इतने हजार पवित्र स्थानों की मिटटी और जल