देश में मंडराया बर्ड फ्लू का खतरा, राजस्थान सहित इन राज्यों में मर रहे प्रवासी पक्षी

74

नई दिल्ली। कोरोना महामारी से देश अभी उबर नहीं पाया था कि बर्ड फ्लू ने दस्तक दे दी है। बीते दिनों राजस्थान, मध्य प्रदेश और केरल में बर्ड फ्लू के चलते मौत हो गई थी। वहीं अब हिमाचल प्रदेश में 1700 से अधिक प्रवासी पक्षियों की अचानक मौत हो गई है। जानकारी मिली है कि हिमाचल के कांगड़ा के पौंग झील में 1,775 से अधिक प्रवासी पक्षी मृत माए गए हैं। इन पक्षियों में बउर् फ्लू का संक्रमण पाया गया है। अधिकारियों के मुताबिक बर्ड फ्लू से पक्षियों की मौत सामने आने के बाद कांगड़ा जिला प्रशासन ने जनपद के फतेहपुर, देहरा, जवाली और इंदौरा उप मंडल में मुर्गी, बतख तथा सभी तरह की मछलियों के साथ उनके अंडे, मांस, चिकन आदि की बिक्री पर रोक लगा दिया गया है।

इसे भी पढ़ें: कोई 12 वीं फेल तो कोई स्कूल ही नहीं गया, जानिये, कितने पढ़े हैं आपके फेवरेट स्टार

हिमाचल में मृत पक्षियों के पाए जाने के बाद जिला प्रशासन ने पौंग झील के एक किलोमीटर के दायरे में आने वाले क्षेत्रों में अलर्ट घोषित जोन कर दिया है। इसके साथ ही प्रशासन ने इन क्षेत्रों में पर्यटकों के आने-जाने पर भी प्रतिबंध लगा दिया है। गौरतलब है कि कांगड़ा के पौंग जलाशय में इन बाहरी पाक्षियों के सेंक्चुरी बनाई गई है। इस सेंक्चुरी में हर साल सर्दी के मौसम में साइबेरिया और मध्य एशिया के ठंडे क्षेत्रों से लाखों की संख्या में प्रवासी पक्षी आते हैं। लगभग फरवरी-मार्च तक यहां रहने के बाद फिर वापस लौट जाते हैं।

प्रवासी पक्षियों की मौत के बारे में प्रधान मुख्य वन संरक्षक (वन्यजीव) अचर्ना शर्मा ने बताया कि मरने वाले पक्षियों के नमूने लिए गए थे। इन नमूनों की जांच में बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई है। उन्होंने बताया कि विभाग की तरफ से भोपाल स्थित नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हाई सिक्योरिटी एनिमल डीजीज की तरफ से इस मामले में पुष्टि का इंतजार किया जा रहा है।

क्योंकि इसी के अंतर्गत इस बीमारी की जांच के लिए एक विशेष नोडल ईकाई गठित की गई है। ज्ञात हो कि बीते दिनों राजस्थान के आधा दर्जन जिलों में 250 के करीब कौवे मृत पाए गए थे। इसके बाद बर्ड फ्लू को लेकर चेतावनी जारी कर दी गई थी।

इसे भी पढ़ें: सुप्रीम कोर्ट से मिली नए संसद भवन के निर्माण को मंजूरी, पीएम मोदी के महत्वाकांक्षी योजना को लगे पंख