वैक्सीन विवाद: रजा अकादमी ने जारी किया फतवा, वैक्सीन में सूअर की चर्बी होने का जताया शक

35

नई दिल्ली। कोरोना महामारी की वजह से दुनिया के सभी देशों में कोहराम मचा हुआ है। संक्रमण की वैक्सीन का एक वरदान की तरह है लेकिन अब इसे लेकर एक नया विवाद खड़ा हो गया है। मुंबई की रजा अकादमी ने कोरोना वैक्सीन को लेकर फतवा जारी कर दिया है। उन्हें इस बात का शक है कि, वैक्सीन में सूअर की चर्बी है। वैक्सीन को लेकर रजा अकादमी ने विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) को एक पत्र लिखा है, जिसमे उन्होंने वैक्सीन की कंपोजिशन की जानकारी मांगी है। चीन की बनी कोरोना वैक्सीन को लेकर रजा अकादमी ने पत्र लिखा है, जिसमे उन्होंने सूअर और गाय की चर्बी का इस्तेमाल होने का शक जाहिर किया है।

इसे भी पढ़ें: बड़ा खुलासाः सपा के पूर्व मंत्री गायत्री के ऑफिस से मिले 11 लाख रुपए के पुराने और प्रतिबंधित नोट

वैक्सीन को लेकर देश में हलाल और हराम की नई बहस शुरू हो गई है। एक तरफ जहां कुछ मुस्लिम वैक्सीन को लेकर सवाल उठा रहे हैं, वहीं कुछ मुस्लिम वैक्सीन को किसी भी तरह के विवाद से दूर रखने की बात कर रहे हैं। इस्लाम की सबसे पवित्र स्थान सऊदी को कहा जाता है, जहां पिछले दिनों सऊदी के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान ने कोरोना का टीका लगवाया है। अरब में जब वैक्सीन को लेकर कोई विवाद नहीं हो रहा है तो भारत में क्यों अफवाहों का बाजार गर्म हो रहा है। ये सब आम आदमी की समझ से बाहर है।

रजा अकादमी सूफी शिक्षा के लिए जानी जाती है। इससे पहले भी मशहूर संगीतकार एआर रहमान को लेकर भी एक फतवा जारी कर चुकी है। इस तरह की बातों पर केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा है कि, इस तरह की अफवाहें पहले भी फैलाई जा चुकी हैं। वहीं सपा सांसद और डॉक्टर एसटी हसन ने वैक्सीन को लेकर हो रहे विवाद को बकवास करार दिया है। संक्रमण पूरी दुनिया में जहां 18 लाख से ज्यादा जाने ले चूका हैं, वहीं भारत में 1 लाख 48 हज़ार जानें जा चुकी है।

इसे भी पढ़ें: चीन की बनी कोरोना वैक्सीन पर दुनिया को भरोसा नहीं, पाकिस्तान में भी लोग नहीं कर पा रहे हैं विश्वास