कोरोना ने फिर पकड़ी रफ्तार, 24 घंटे में सामने आए इतने हजार मरीज

150
corona

कोरोना वैक्सीन (Corona vaccine) आने के बाद भी कोरोना के कई मामले( Many Cases) सामने आ रहे हैं। हालाकि वैक्सीन आने के बाद काफी हद तक सुधार(Substantially improved) भी पाया जा रहा हैं। देश में कोरोना वायरस के दैनिक मामलों में उतार-चढ़ाव का सिलसिला अभी भी जारी है। लोगों में इस खतरनाक बीमारी का दहशत अभी भी बना हुआ हैं। पिछले 24 घंटे में संक्रमण के 12,923 नए मामले रिपोर्ट किए गए हैं।

इसे भी पढ़ें-पेट्रोल की कीमतों ने छुआ सौ रुपये का आंकड़ा, डीजल की कीमत में भी लगी आग

11,067 कोरोना के नए मामले

बुधवार के मुकाबले आज रिपोर्ट किए गए मरीजों की संख्या में बढ़ोतरी दर्ज की गई है। वही कल संक्रमण के 11,067 नए मामले सामने आए थे। इसके साथ ही  संक्रमणमुक्त मरीजों की संख्या बढ़कर एक करोड़ पांच लाख से ज्यादा हो चुकी है। सक्रमित मरीज मिलने की वजह भी खुद जनता की बढ़ती हुई लापरवाही हैं। वैक्सीन के आ जाने से कुछ लोगों का खौफ खत्म हो गया हैं। उन लोगों को अभी इस बीमारी से बचने के लिए पूरी तरह बचाव करना चाहिए जो लोग पहले से ही किसी बीमारी से ग्रसित हैं।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस के 12,923 नए संक्रमित मिले हैं, जिससे देश में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 1,08,71,294 हो गई है। वहीं, इस दौरान 108 लोगों ने संक्रमण के चलते अपनी जान गंवाई है, इसके बाद कोरोना मृतकों की संख्या बढ़कर 1,55,360 हो गई है।

वायरस को मात देकर घर पहुंचे मरीज

स्वास्थय मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार, देश में कोरोना संक्रमणमुक्त मरीजों की संख्या बढ़कर 1,05,73,372  हो गई है। पिछले 24 घंटे में 11,764 मरीजों ने वायरस को मात दी है और इलाज के बाद ठीक होकर घर लौटे हैं। वहीं, देश में कोरोना वायरस के सक्रिय मामलों की संख्या लगातार दो लाख से नीचे बनी हुई है।

आंकड़ों के अनुसार, देश में कोविड-19 के कुल सक्रिय मामलों की संख्या 1,42,562 है, जिनका अस्पताल में इलाज जारी है। वैक्सीन के आ जाने से अब तक 70,17,114 स्वास्थ्यकर्मियों को कोरोना का टीका लगाया जा चुका है। इसके अलावा भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) के अनुसार, 10 फरवरी तक कोविड-19 के कुल 20,40,23,840 नमूनों का परीक्षण किया गया। इसमें से 6,99,185 नमूनों का परीक्षण बुधवार को किया गया है।

इसे भी पढ़ें-बच्ची की जिंदगी और मौंत की जंग में मोदी सरकार बनी संजीवनी बूटी