बीएमसी के सह आयुक्त ने पिया सेनेटाइजर, बताया इस वजह से हुई बड़ी चूक

24
BMC

मुंबई। कोरोना वायरस के कहर के बाद से देश के हर नागरिक के लिए सेनेटाइजर और मास्क अनिवार्य हो गया। मीटिंग हो या ऑफिस हर जगह सेने टाइजर रखा जाने लगा। ऐसे में कई बार ऐसा हुआ कि लोग सेनेटाइजर को लेकर सावधानी नहीं बरत पा रहे हैं और पानी के जैसा दिखने की वजह से पी ले रहे हैं। सेनेटाइजर पीने की ताजा घटना आज मुंबई में देखने को मिली, जहां बीएमसी के सह आयुक्त ने पानी समझकर गलती से टेबल पर बोतल में रखा सेनेटाइजर पी लिया।

जानकरी के मुताबिक महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई में आयोजित एक बैठक के दौरान बीएमसी में सह आयुक्त रमेश पवार से भारी चूक हो गयी। उन्होंने अपनी टेबल पर रखी सेनेटाइजर की बोतल को पानी समझ कर उठा लिया और पी लिया। हालांकि सेनेटाइजर पीते ही उन्हें अपनी गलती का एहसास हुआ और तुरंत उगल दिया। इस बारे में जब मीडिया ने उनसे सवाल किया तो उन्होंने कहा ‘मैंने सोचा कि मुझे अपना भाषण शुरू करने से पहले पानी पीना चाहिए इसलिए मैंने बोतल उठा ली और पीने लगा। पानी और सैनिटाइटर की बोतलें वहां समान थीं इसलिए इस तरह की चूक हुई।

यवतमाल जिले में भी घट चुकी है घटना

हालांकि जैसे ही मैंने इसे पिया, मुझे गलती का एहसास हुआ और मैंने इसे पूरी तरह से बाहर उगल दिया। बता दें कि इसके पहले दो फरवरी को भी ऐसी ही एक घटना सामने आयी थी,जिसमे महाराष्ट्र के यवतमाल जिले में कापसिकोरी गांव स्वास्थ्यकर्मियों ने 12 बच्चों को पोलियो ड्रॉप की जगह सैनिटाइजर पिला दिया, जिससे बच्चों की हालत बिगड़ गई। उल्टी और बेचैनी की शिकायत होने पर सभी बच्चों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया तब जाकर उनकी स्थिति में सुधार हुआ। यह बच्चे अभी भी डॉक्टरों की निगरानी में है। सभी की उम्र पांच साल से कम है।

इसे भी पढ़ें:-लॉकडाउन के नाम पर सिर्फ वसूली करने से काबू में नहीं आएगा करोना