बैंक धोखाधड़ी मामले में सीबीआई ने 19 स्थानों पर की छापेमारी, हाथ लगे अहम सुराग

39

नई दिल्ली। अहमदाबाद और दिल्ली की कंपनियों के खिलाफ केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने बैंक से करोड़ों रुपए ढगी करने के मामले में अलग-अलग दो केस दर्ज किए हैं। दोनों कंपनियों ने बैंक को करोड़ों रुपए का चूना लगाया है। इन कंपनियों पर बैंक को 67.07 और 64.08 करोड़ रुपए कथित ठगी करने का आरोप है। इसी सिलसिले में सीबीआई ने कंपनी के मुंबई और दिल्ली एनसीआर में 19 स्थानों पर छापेमारी की है। सीबीआई के एक अधिकारी ने बताया कि टीम ने कृष्णा निटवियर टेक्नोलॉजी लिमिटेड और इसके निदेशकों के कार्यालय और आवासीय परिसर, मुंबई और सिलवासा में 10 स्थानों पर छापेमारी की गई है।

इसे भी पढ़ें: देश के दुश्मनों की अब खैर नहीं, डीआरडीओ ने बनाई आधुनिक कार्बाइन, एक मिनट में दागेगी 700 गोलियां

अधिकारी के मुताबिक सीबीआई ने स्टेट बैंक इंडिया की शिकायत पर कृष्णा निटवियर टेक्नोलॉजी लिमिटेड, उसके निदेशकों, अज्ञात लोक सेवकों तथा अन्य अज्ञात के खिलाफ धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज किया है। बैंक ने आरोप लगाया है कि इस कंपनी और इसके निदेशकों ने 67.07 करोड़ रुपए की धोखाधड़ी की है। अधिकारी का कहना है कि कंपनी सूती धागे और कपड़ों के विनिर्माण में लगी हुई है। आरोप है कि आरोपियों ने वर्ष 2001 से 2015 के बीच जालसाजी कर फंड का डाइवर्जन करके बैंक के साथ धोखाधड़ी की है। सीबीआई अधिकारी ने बताया कि छापेमारी के दौरान कई गुप्त दस्तावेज हाथ लगे हैं।

अधिकारी ने आगे बताया कि दिल्ली और नोएडा स्थित अल्पाइन रियलटेक प्राइवेट लिमिटेड और उसके निदेशकों, दो अन्य निजी कंपनियों, अज्ञात लोक सेवकों और व अन्य लोगों के खिलाफ पंजाब और सिंध बैंक से मिली एक शिकायत पर दूसरा मामला भी दर्ज किया गया था। कंपनी और निदेशकों पर आरोप है कि बैंक के साथ धोखाधड़ी करके 64.78 करोड़ रुपए का चूना लगाया है। इसी मामले में सीबीआई के अधिकारियों ने कर्ज लेने वाली कंपनी सहित अन्य आरोपियों के कार्यालय और आवासीय परिसर सहित 9 स्थानों पर छापेमारी कर तलाशी ली है।

इसे भी पढ़ें: बिना अनुमति के पदयात्रा निकाल रहे अजय कुमार लल्लू को पुलिस ने किया गिरफ्तार