Saturday, October 16, 2021

16 करोड़ के इंजेक्शन के लिए अयांश के पिता ने लगाई मुख्यमंत्री से गुहार, पहुंचे जनता दरबार

- Advertisement -
- Advertisement -

स्पाइनल मस्कुलर अट्रॉफी नाम की बीमारी से एक और माजूम जिंदगी और मौत की जंग लड़ रहा हैं। 10 माह के अयांश की जान भी 16 करोड़ के इंजेक्शन देकर बचाई जा सकती है। इस इंजेक्शन के लिए अयांश के माता पिता सक्षम नहीं है। बच्चे को इस इंजेक्सन की जरूरत है तो इसके लिए अयांश का परिवार पिछले एक महीने से मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मिलने की कोशिश कर रहा है, लेकिन अब तक मुलाकात नहीं हो पा रही है। इस बीच अयांश के पिता ने सरकार से एक और अपील की है।

माता-पिता ने लगाई गुहार

अयांश के पिता आलोक सिंह ने बताया कि बीते 15 दिन से हर रोज सीएम आवास में बात हो रही है, लेकिन मदद मिलने की वजाय सिर्फ आश्वासन दिया जा रहा है लेकिन अभी तक किसी ने मुलाकात नहीं की, इसलिए आज बड़ी ही उम्मीद से जनता दरबार आए हैं ताकि किसी हर हाल में सीएम से मुलाकात हो जाए।

अयांश की मां ने बताया कि किसी तरह क्राउड फंडिंग से अभी तक 6 करोड़ 25 लाख रुपये ही इकट्ठा कर पाए हैं। लेकिन उनकी रफ्तार भी धीरे हो गई है। उन्होंने यह भी बताया कि जिस रफ्तार से पैसे जुट रहे हैं, उससे बहुत दिन लग जाएंगे और डॉक्टर के मुताबिक अगर अयांश को अगले डेढ़ महीने में इंजेक्शन लग जायेगा तो उसकी जिंदगी बच जाएगी और बीमारी से भी जल्द आराम होगा।

बच्चे की जिंदगी की भीख मांगते हुए अयांश के पिता आलोक सिंह ने कहा कि मैं मुख्यमंत्री से मांग कर रहा हूं कि मेरी जमीन सरकार ले ले और कुछ अपनी ओर तरफ से मिलाकर बच्चे के इंजेक्शन की व्यवस्था करा दे। अयांश के माता पिता दोनों बच्चे की जिंदगी के लिए हर किसी के हात पैर जोड़ रहे हैं।

पिछले दिनों ही अयांश के परिवार वालों से आरजेडी नेता तेज प्रताप यादव ने मुलाकात की थी। उन्होंने 10 महीने के अयांश को गोद में ले लिया और उसको लाड़ प्यार करने लगे। आप भी देख सकते है कि वह किस तरह उसे खिला लहे हैं।

अयांश के पिता आलोक कुमार सिंह और मां नेहा सिंह से मुलाकात के बाद तेज प्रताप ने केंद्र में नरेंद्र मोदी सरकार और बिहार में नीतीश कुमार की सरकार से अपील की कि वह अयांश की सहायता के लिए जरूर हाथ बढ़ाएंगे।

इससे पहले कई राजनेता भी बच्चे की मदद के लिए आगे आ चुके हैं। पाटलिपुत्र से बीजेपी के सांसद रामकृपाल यादव स्पाइनल मस्कुलर अट्रॉफी नाम की दुर्लभ बीमारी से ग्रसित पटना के 10 महीने के अयांश की मदद की गुहार लगा चुके हैं।

आपको बता दे कि कुछ दिन पहले इसी बीमारी से 13 महीने की वेदिका मौत की जंग हार गई। जबकि उसे भी 16 करोड़ का इंजेक्शन दिया गया था। सब कुछ ठीक था लेकिन अचानक तबीयत बिगड़ी और देर रात हॉस्पिटल में मौत हो गई।

इसे भी पढ़ें-ओलंपिक पदक विजेताओं से मिले PM मोदी, नीरज चोपड़ा को खिलाया चूरमा, सिंधु को दी आइसक्रीम पार्टी

 

- Advertisement -
Latest news
- Advertisement -
Related news
- Advertisement -