यौन शोषण के मामले सजा काट रहे आसाराम की तबीयत बिगड़ी, हालत नाजुक

270

नई दिल्ली। आसाराम की तबीयत बिगड़ गई हैं, जिसकी वजह से उन्हें महात्मा गांधी अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में भर्ती कराया गया है। आसाराम को सांस लेने में परेशानी और बेचैनी हो रही थी। राजस्थान के जोधपुर की सेंट्रल जेल में नाबालिग के साथ यौन शोषण के मामले में आसाराम सजा काट रहा है। जेल में बंद आसाराम को मंगलवार रात अचानक बेचैनी हुई और सांस लेने में परेशानी होने लगी। इसके बाद जेल की डिस्पेंसरी में प्राथमिक इलाज हुआ, जिसके बाद भी जब आसाराम के सेहत में कोई सुधार नहीं हुआ तो महात्मा गांधी अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड शिफ्ट किया गया।

इसे भी पढ़ें: फिर बढ़ी कोरोना की रफ्तार, नौ दिन में बढ़े 70 फीसदी केस, मेयर ने दिए लॉकडाउन का संकेत

जहां आसाराम के बीपी बढ़ा हुआ मिला। उसे चलने में भी परेशानी हो रही थी, क्योंकि उनके घुटने काम नहीं कर रहे थे।आसाराम को जब अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में शिफ्ट किया गया तो ये खबर उनके अनुयायियों और संगठन के लोगों को भी लग गई, जिसके बाद कुछ लोग वहां पहुंच गए। जिन्हे पुलिस ने बाहर किया। आसाराम की कई जांचे महात्मा गांधी अस्पताल में हुईं, जिसके बाद उसे मथुरादास माथुर अस्पताल के CCU वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया है।

जेल में सजा काट रहे आसाराम की तबियत खराब होने की सूचना जैसे ही उनके समर्थकों को हुई। अस्पताल के सामने लोगों की भीड़ जुटने लगी। गौरतलब है कि, आसाराम पर चल रहे यौन शोषण के मामले की सुनवाई पिछले हफ्ते टल गई थी क्योंकि, उनके वकील कोर्ट में उपस्थित नहीं हो सके थे। अब इस मामले की अगली सुनवाई 8 मार्च को होनी है। एससी एसटी कोर्ट ने आसाराम को आजीवन कारावास की सजा सुनाई थी।

वर्ष 2013 में आसाराम पर मनाई आश्रम में एक नाबालिग लड़की ने यौन शोषण का आरोप लगाया था। इसके बाद 31 अगस्त 2013 को आरोपी आसाराम को गिरफ्तार कर लिया गया था। 2018 में जोधपुर स्पेशल कोर्ट ने आसाराम को नाबालिग लड़की के साथ दुष्कर्म का दोषी पाया था। कोर्ट आसाराम को पोक्सो एक्ट के तहत उम्र कैद सजा सुनाई थी और एक लाख रुपए का जुर्माना भी लगाया था।

इसे भी पढ़ें: पेट्रोल-डीजल की बढ़ती कीमतों पर राहुल ने मोदी को घेरा, कहा- सरकार ने ठाना है, जनता को …