भारत और अमेरिका के बीच हुई इस डील से खौफ में चीन, जानें पूरा माजरा 

24

भारत और चीन के बीच जारी तनाव से हालात अब इस कदर संजीदा हो चुके हैं कि ड्रैगन की हर नापाक कोशिश      का माकूल जबाव देने के लिए भारत अपने आपको हर मोर्चे से दुरूस्त करने की तैयारी में जुट चुका है। वैसे भी ड्रैगन जैसा दगाबाज न जाने कब कहां और किस मोर्चे पर दगा दे जाए कहना मुश्किल है.. इसलिए भारत के लिए यह बहुत जरूरी है कि वो अपने आपको हर मोर्चे पर इस कदर दुरूस्त कर लें कि कोई भी कदम उठाने से पहले उसे एक नहीं बल्कि हजार मर्तबा विचार करना पड़े। इसी कोशिश के तहत अब भारत ने अमेरिका के साथ एक डील की है। भारत के लिए सुरक्षा मोर्चे पर यह डील बेहद उपयोगी मानी जा रही है। इस डील के तहत अमेरिका ने अपनी नौसेना के हथियारों में से तीन 127 मीडियम कैलीबर बंदूकें देने का फैसला किया है। अमेरिका की तरफ से यह बंदूके भारत को मिलने जा रही है। यह डील 3800 रूपए प्रति बंदकों के हिसाब से तय हुई है। इससे पहले भी भारत ने अमेरिका से दो ड्रोन लीज पर लिए थे। ये भी पढ़े –अब तो ड्रैगन की खैर नहीं, भारत और अमेरिका ने मिलकर तैयार किया ये बड़ा प्लान, खौफ में चीन 

विदित हो कि भारत और अमरेिका के बीच रिश्ते बेहद प्रगाढ़ रहे हैं। वहीं, अब ऐसे में जब भारत और चीन के बीच तनाव  अपने चरम पर है तो यह  संबंध अब यूं समझिए अपने शबाब पर पहुंच रहे हैं। ट्रंप के शासनकाल में भी अमेरिका  ने भारत का पक्ष लिया है। कई मौकों पर अमेरिका ने भारत को मदद की पेशकश की है  ताकि उसके दुश्मन देशों को माकूल जबाव दिया जा सके। अब अमेरिका से हासिल हुए इस बंदूकों को समुंद्र में तैनात कर युद्धपोत पर भेजा जाना है। इससे पहले भारत ने अमेरिका से निगरानी के लिए हवाई जहाजों की जगह P-8I जहाज ने ली थी। इससे पहले भारत ने अमेरिका से 10 जहाजी ड्रोन खरीदने का फैसला किया था। भारत लगातार यह कदम इसलिए उठा रहा है, चूंकि  मौजूदा समय में भारत और चीन के बीच जारी तनाव अब अपने शबाब पर पहुंच चुका है, लिहाजा आवेश  में आकर चीन कोई नापाक करतूत को धरातल पर न उतार दे, इसलिए भारत अपने आपको रक्षा मोर्चे पर दुरूस्त कर लेना चाह रहा है। ये भी पढ़ें – भारत—अमेरिका के बीच रक्षा सौदे पर लगी मोहर, रोमियो और अपाचे बढ़ाएंगे भारतीय सेना की ताकत